Gharkul

तुमसर. प्रधानमंत्री आवास योजना अंतर्गत बनने वाले आवास का निर्माण कार्य सरकारी सिस्टम, कोरोना संक्रमण एवं अधिकारियों की की लापरवाही के कारण अधर में अटक गई़ घरकुल लाभार्थियों द्वारा गत 2 वर्षों से बकाया राशि का इंतजार किया जा रहा है. लेकिन जिला प्रशासन द्वारा अब तक निधि आवंटित नही की गई हैं. घरकुल लाभार्थी केंद्र सरकार के माध्यम से निधि उपलब्ध नही कराए जाने से चिंताग्रस्त दिखाई दे रहे है.

घरकुल लाभार्थियों की बकाया निधि उपलब्ध कराने की मांग को लेकर नगराध्यक्ष प्रदीप पड़ोले द्वारा अगस्त माह में आंदोलन करने की चेतावनी दी गई थी. तब सांसद सुनील मेंढे एवं जिलाधिकारी द्वारा  8-10 दिनों के भीतर निधि उपलब्ध कराने का आश्वासन देकर अनशन पिछे लेने का अनुरोध किया गया था. इससे लाभार्थियों को थोड़ी राहत तो मिली थी. लेकिन 2 माह बीत जाने के बाद भी निधि उपलब्ध नही होने से लाभार्थियों में असंतोष का वातावरण निर्माण हो गया है.

राज्य सरकार से मिली थी निधि

नवंबर 2018 में घरकुल का निर्माण कार्य तो जोरों से शुरू हुआ था, लेकिन इसकी नींव गिरने के बाद  इसकी किश्त लाभार्थियों के खाते में अब तक जमा नहीं हुई. जिससे निर्माण कार्य पूरी तरह रुक गए है.  घरकुल लाभार्थियों को जुलाई 2019 में दूसरी किश्त राज्य सरकार के माध्यम से मिली थी. लेकिन केंद्र सरकार द्वारा अब तक घरकुल योजना के लिए निधि का प्रावधान नही किया गया है. तबसे अब तक बकाया राशि के लिए लाभार्थी नप. के चक्कर काट रहे है.

44 लाभार्थी प्रतीक्षा में

प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी)अंतर्गत शहर में 364 घरकुलों का डीपीआर मंजूर हुआ था. इसमे 320 लोगों को घरकुलों का लाभ मिला था. 44 लाभार्थी आज भी लाभ से वंचित हैं. मंजूर आवासों का निर्माण कार्य नवंबर 2018 से शुरु किया गया था. जिन लोगों को घरकुल योजना मंजूर हुई थी, उन्होंने अपनी झोपड़ी एवं मकानों को तोडकर वे किराए के मकान में रहने लगे़ अब तक सभी लाभार्थियों को  केवल एक लाख रु. ही प्राप्त हुए हैं.जिससे उनका निर्माण कार्य अटका पड़ा है. सरकार एवं जिला प्रशासन द्वारा इस ओर तत्काल ध्यान देकर घरकुल लाभार्थियों को शेष अनुदान राशि उपलब्ध कराने की मांग की जा रही है.