गण गण गणात बोते की गूंज से गूंजी संतनगरी

शेगांव.गजानन महाराज की पालकी हजारों श्रद्धालु तथा वारकरियों के जत्थे के साथ गण गण गणात बोते की जयघोष के साथ शुक्रवार की सुबह 11 बजे शेगांव पहुंची. भक्तिमय हो उठा शहर गुरुवार को पालकी का

शेगांव. गजानन महाराज की पालकी हजारों श्रद्धालु तथा वारकरियों के जत्थे के साथ गण गण गणात बोते की जयघोष के साथ शुक्रवार की सुबह 11 बजे शेगांव पहुंची.

भक्तिमय हो उठा शहर
गुरुवार को पालकी का खामगांव में मुकाम था. शुक्रवार की सुबह 5 बजे खामगांव से पालकी शेगांव के लिये निकली. इस समय हजारों श्रध्दालु पालकी के साथ शेगांव पहुंचे. सुबह 6 बजे से ही श्रद्धालुओं के आगमन का सिलसिला शुरू हो चुका था. जिसके कारण पूरा शहर भक्तिमय हो गया था. स्थानीय गजानन महाराज अभियांत्रिकी महाविद्यालय के प्रांगण में चेअरमैन श्रीकांतदादा पाटिल ने पालकी का स्वागत किया. इसके बाद माउली इन्स्टीट्यूशन के चेअरमैन ज्ञानेश्वरदादा पाटिल, शरद शिंदे, प्राचार्य सोमानी ने पालकी में विराजमान श्रीं के रजत मुख के दर्शन लिये. इसके बाद पालकी ने यहां पर थोड़ा विश्राम किया. वारकारिओं ने महाप्रसाद लेने के बाद पालकी का शहर में वाटिका मार्ग, एमएसईबी चौक, विश्राम गृह इस मार्ग से होते हुये रेल्वे स्टेशन, अग्रेसन चौक, छत्रपति शिवाजी महाराज चौक, गांधी चौक होते हुये श्रीं के मंदिर में प्रवेश हुआ.

इस दौरान सफेद वस्त्रधारी वारकरी कंधों पर केसरिया ध्वज लिये शिस्तबध्द तरीके से पालकी को लेकर शहर में दाखिल होते ही श्रध्दालुओं ने उनका जोरदार स्वागत किया. इस वक्त पुलिस प्रशासन की ओर से कड़ा पुलिस बंदोबस्त किया गया था. पालकी के साथ खामगांव तथा जिले के कई श्रध्दालु होने से हजारों की तादाद में भीड़ उमड पडी.