महमूद अपने आखिरी वक़्त में इसलिए थे अमिताभ बच्चन से नाराज

    मुंबई: अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) को सदी का महानायक कहा जाता है। लेकिन एक ऐसा भी वक़्त था जब अमिताभ एक्टिंग छोड़ कर मुंबई से जाने वाले थे। जिसका कारण था उनकी फिल्मों का लगातार असफल होना।  तब महमूद (Mehmood) ने ही अमिताभ को रोका और कई फिल्मो में काम भी दिलाया। यहां तक की फिल्म ‘बॉम्बे टू गोवा’ में महमूद ने अमिताभ बच्चन को लीड रोल में रखा।
     
    अमिताभ को फिल्म ‘बॉम्बे टू गोवा’ की बदौलत कई सारी हिट फिल्मे मिली जिसकी वजह से अमिताभ कामयाबी की सीढ़ी चढ़ते गए, यहां तक की लोग महमूद को अमिताभ का गॉड फादर कहने लगे, जैसे-जैसे वक़्त गुज़रता गया अमिताभ बिजी रहने लगे। एक तरफ उनकी कामयाबी बढती गई तो दूसरी तरफ उतना ही वो महमूद से दूर होने लगे। यहां तक की एक इंटरव्यू के दौरान महमूद ने खुद बताया की “मैंने अमित को अपने साथ घर में रखकर पिक्चरें दिलाईं, काम करना सिखाया… काम दिया और पैसे कमाना सिखाया, लेकिन आखिर में मुझे बहुत दुख हुआ”।
     
     
    महमूद अमिताभ से इसलिए नाराज़ थे क्योंकि जब अमिताभ के पिता हरिवंशराय बच्चन गिर गए थे तब महमूद उनसे मिलने गए थे लेकिन जब महमूद की बाइपास सर्जरी हुई तो अमिताभ ब्रीच कैंडी अस्पताल तो गए लेकिन महमूद से नहीं मिले। जिससे महमूद को बहुत बुरा लगा था।
     
    जब महमूद का निधन हुआ था तब अमिताभ ने अपने ब्लॉग में कहा था कि एक एक्टर के तौर पर स्थापित करने में उन्होंने हमेशा मेरी मदद की। महमूद भाई मेरे करियर के शुरुआती ग्राफ में मदद करने वालों में से थे। वो पहले प्रोड्यूसर थे जिन्होंने मुझे लीड रोल दिया था– ‘बॉम्बे टू गोवा’ में। लगातार कई फिल्मों के फ्लॉप होने के बाद मैंने वापस घर जाने का प्लान बना लिया तब महमूद साहब के भाई अनवर ने मुझे रोका था।