Sachin, Dravid, Ponting never got triple century, Kohli is also waiting

-विनय कुमार

टीम इंडिया (Team India) के पूर्व सलामी बल्लेबाज़ गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) ने टीम इंडिया के ‘हिटमैन’ रोहित शर्मा (Rohit Sharma) को भारतीय टी-20 टीम का कप्तान बनाए जाने को सही ठहराया है। गौतम गंभीर ने इस मामले पर तो यहां तक कह दिया कि, अगर इस स्टार बल्लेबाज़ को यह ज़िम्मेदारी नहीं दी गई, तो यह ‘शर्मनाक’ होगा। रोहित शर्मा की कप्तानी में मुंबई इंडियंस (Mumbai Indians) ने 5वीं बार आईपीएल (IPL T20) ट्रॉफी जीता। रोहित ने आईपीएल के फाइनल मैच (IPL 2020 FINAL MATCH) में अर्धशतक तो लगाया ही, अपनी शानदार कप्तानी से काफी प्रभावित भी किया। इस समय रोहित शर्मा T20 और वनडे फॉर्मेट के टीम इंडिया के वाईस-कैप्टेन (Vice Captain, Team India) हैं।

गौतम गंभीर ने ‘ईएसपीएनक्रिकइंफो’ (espncricinfo) के ‘टी-20 टाइम आउट’ प्रोग्राम में कहा, “अगर रोहित शर्मा भारतीय कप्तान नहीं बनते हैं तो यह उनका नुकसान है, रोहित का नहीं।” उन्होंने कहा, “हां, कप्तान उतना ही अच्छा होता है जितनी अच्छी उसकी टीम होती है, और मैं इससे पूरी तरह सहमत हूं। लेकिन, कप्तान को परखने का पैमाना क्या है, कि कौन अच्छा है और कौन नहीं? पैमाना और मापदंड समान होने चाहिए। रोहित की कप्तानी में उनकी टीम (MI) ने 5 आईपीएल ट्रॉफी जीते है।” गंभीर ने कहा, “हम कहते रहते हैं कि महेंद्र सिंह धोनी भारत के सबसे सफल कप्तान हैं. क्यों? क्योंकि उनकी टीम ने 2 विश्व कप (World Cup) और 3 आईपीएल खिताब जीते हैं। 

रोहित शर्मा (Rohit Sharma) की तारीफ़ में गौतम गंभीर यहीं नहीं ठहरे, उन्होंने आगे कहा, “रोहित ने 5 आईपीएल ट्रॉफी जीती हैं। वह टूर्नामेंट के इतिहास के सबसे सफल कप्तान है। भविष्य में अगर उसे भारत की सीमित ओवरों या टी-20 टीम की कप्तानी नहीं मिलती तो यह शर्मनाक होग। क्योंकि, वह इससे अधिक कुछ नहीं कर सकता। लेकिन, इतना ज़रूर कि, रोहित उन टीम को जीत दिलाने में मदद कर सकता है जिनकी वह कप्तानी कर रहा है। इसलिए, अगर वह सीमित ओवरों के फॉर्मेट में टीम के कप्तान नहीं बनते हैं, तो यह टीम इंडिया का नुकसान होगा।” 

आईपीएल T20 के अबकी सीज़न (IPL T20, 2020) में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु (RCB ) के एक बार फिर ट्रॉफी पर कब्ज़ा जमाने में असफल रहने को लेकर गौतम गंभीर विराट कोहली को जवाबदेह बनाने की बात पहले ही कर चुके हैं। लेकिन, अपनी उस बात पर सफाई देते हुए उन्होंने कहा कि उनके बोलने का मतलब यह कतई नहीं था कि कोहली की कप्तानी ‘खराब’ है, उन्होंने बस अपनी एक राय रखी थी कि कप्तानी बांटने का मॉडल वक़्त की मांग है।

टीम इंडिया के पूर्व सलामी बल्लेबाज़ और बीजेपी के सांसद गौतम गंभीर ने कहा, “कप्तानी बांटने पर विचार किया जा सकता है। कोई भी बुरा नहीं है। रोहित शर्मा ने सीमित ओवरों के फॉर्मेट में साफ़ दिखा दिया है कि उनकी और विराट कोहली की कप्तानी में कितना बड़ा अंतर है। एक की कप्तानी में उसकी टीम ने 5 बार आईपीएल कि ट्रॉफी जीती और दूसरे ने अब तक नहीं जीता। मैं यह इसलिए नहीं कह रहा कि कोहली बुरे कप्तान हैं, लेकिन उन्हें भी वही प्लेटफॉर्म मिला है, जो रोहित शर्मा को मिला। इसलिए दोनों को समान पैमाने पर देखने कि ज़रुरत है।

अब देखना ये है कि, BCCI और टीम मैनेजमेंट आने वाले समय में क्या फैसला लेता है। लेकिन, इस बात से इंकार भी नहीं किया जा सकता कि, T 20 और वनडे फॉर्मेट के सीमित ओवरों के क्रिकेट कि टीम का कप्तान रोहित शर्मा को बना दिया जाए।