‘जुगनी’ फेम लोक गायिका गुरमीत बावा का हुआ निधन, 77 साल की उम्र में ली आखिरी सांस

    ‘Jugni’ famous folk singer Gurmeet Bawa passed away, breathed her last at the age of 77: मशहूर पंजाबी लोक गायिका गुरमीत बावा का रविवार को लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। वह 77 वर्ष की थीं। पारिवारिक मित्र भूपिंदर सिंह संधू ने कहा कि बावा ने यहां शहर के एक अस्पताल में अंतिम सांस ली। बावा का अंतिम संस्कार सोमवार को किया जाएगा। संधू ने पीटीआई-भाषा को बताया कि सांस लेने में कठिनाई की शिकायत के बाद उन्हें शनिवार शाम को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। गुरमीत बावा के पति किरपाल बावा भी पंजाबी लोक गायक हैं। दूरदर्शन में प्रस्तुति के बाद बावा सुर्खियों में आईं थीं। वह राष्ट्रीय टेलीविजन चैनल पर नजर आने वालीं पहली पंजाबी महिला गायिका थीं। पंजाब के गुरदासपुर जिले के कोठे गांव में 1944 में जन्मीं गुरमीत बावा पंजाब के लोक गीत ”जुगनी” को गाकर पूरे देश में लोकप्रिय हुईं।

    अपने गायिकी के सफर के दौरान गुरमीत बावा को पंजाब सरकार द्वारा राज्य पुरस्कार, पंजाब नाटक अकादमी द्वारा संगीत पुरस्कार, मध्य प्रदेश सरकार द्वारा राष्ट्रीय देवी अहिल्या पुरस्कार और पंजाबी भाषा विभाग द्वारा शिरोमणि गायिका पुरस्कार सहित कई पुरस्कारों से नवाजा गया था। एक आधिकारिक बयान के मुताबिक, पंजाब के राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित ने बावा के निधन पर शोक व्यक्त किया और उनके निधन को पंजाब और दुनियाभर के पंजाबी लोक गीतों के प्रशंसकों के लिए बड़ी क्षति करार दिया। पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने बावा के निधन पर दुख व्यक्त किया है।

    चन्नी ने ट्विटर पर कहा, ”गुरमीत बावा के निधन की खबर सुनकर स्तब्ध और दुखी हूं। पंजाबी लोक संगीत में उनका योगदान अमिट है। मेरी संवेदनाएं उनके परिवार के साथ हैं।” उपमुख्यमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा, उच्च शिक्षा मंत्री परगट सिंह, पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह, शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर बादल समेत अन्य हस्तियों ने भी बावा के निधन पर शोक जताया। (भाषा)