shaktikant das

नयी दिल्ली. भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकान्त दास ने बुधवार को कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था अब पुनरोद्धार के मुहाने पर है। दास ने पूर्व नौकरशाह तथा वित्त आयोग के मौजूदा चेयरमैन एन के सिंह द्वारा लिखी किताब ‘पोट्रेट्स ऑफ पावर: हॉफ ए सेंचुरी ऑफ बिंग एट रिंगसाइड’ के विमोचन के अवसर पर कहा कि केंद्रीय बैंक और सरकार की उदार या अनुकूल मौद्रिक तथा राजकोषीय नीतियों की वजह से देश आर्थिक पुनरोद्धार के करीब है।

उन्होंने कहा, ‘‘हम लगभग आर्थिक पुनरोद्धार के मुहाने पर पहुंच चुके हैं। ऐसे में यह महत्वपूर्ण है कि वित्तीय इकाइयों के पास वृद्धि को समर्थन के लिए पर्याप्त पूंजी हो।” दास ने कहा कि कई वित्तीय इकाइयां पहले ही पूंजी जुटा चुकी हैं, कुछ पूंजी जुटाने की योजना बना रही हैं। उन्होंने कहा कि निश्चित रूप से आने वाले महीनों में वे पूंजी जुटा लेंगी।  गवर्नर ने कहा कि भारत ने कोविड-19 की चुनौतियों से निपटने के लिए राजकोषीय विस्तार का रास्ता चुनना है।

साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि इस संकट के बाद सरकार को राजकोषीय मजबूती की स्पष्ट योजना जारी करनी होगी। दास ने कहा, ‘‘कोविड-19 के बाद, एक बार महामारी पर नियंत्रण हासिल होने के पश्चात सरकार निश्चित रूप से भारत की आगे की राजकोषीय याजना की जानकारी प्रस्तुत करेगी।” उन्होंने कहा कि मौद्रिक और राजकोषीय नीतियों दोनों में हमने उदार रुख अपनाया हुआ है।  (एजेंसी)