Mamta Banerjee and Suvendu Adhikari

    कोलकाता. जहाँ पश्चिम बंगाल (West Bengal) में विधान सभा चुनाव (Vidhan Sabha Elections) की सरगर्मियां तेज हो चुकी हैं। वहीं अब इसी क्रम में CM ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) की चोट को लेकर गरमाई राजनीतिक दांव पेंच के मध्य आज यानी शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी (BJP) के प्रत्याशी शुभेंदु अधिकारी (Suvendu Adhikari) नंदीग्राम (Nandigram) विधानसभा सीट से अपना नामांकन दाखिल करेंगे।

    बता दें कि यहाँ से TMC की टिकट पर खुद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी चुनाव लड़ रही हैं, जिन्होंने बीते 10 मार्च को अपना पर्चा भरा था। वहीं कभी TMC के दिग्गज नेता और ममता के बेहद अपने रहे शुभेंदु अधिकारी और उनकी ममता दीदी के बीच अब होने वाले इस मुकाबले ने नंदीग्राम के महासंग्राम में काफी राजनीतिक उबाल ला दिया है। 

    आज हल्दिया स्थित SDO दफ्तर जाने और नॉमिनेशन फाइल करने से पहले शुभेंदु अधिकारी आज यानी शुक्रवार को सिंघाबिनी मंदिर और जानकीनाथ मंदिर में भी अपनी पूजा अर्चना कर रहे हैं। खबर यह भी है कि कि शुभेंदु अधिकारी के नॉमिनेशन में भाजपा अपना शक्ति प्रदर्शन करेगी और इस दौरान नॉमिनेशन रैली में केंद्र के तीन-तीन बड़े मंत्री भी उपस्थित रहेंगे। यह भी माना जा रहा है कि शुभेंदु अधिकारी अब से कुछ ही देरी में यानी कि करीब 11।30 बजे अपना नामांकन दायर करेंगे और इसके बाद एक बड़ी रैली को भी संबोधित करेंगे।

    सूत्रों के मुताबिक कम से कम तीन केंद्रीय मंत्रियों, स्मृति ईरानी, धर्मेंद्र प्रधान और बाबुल सुप्रियो की अगुवाई में आज शुभेंदु अधिकारी के नामांकन रैली का नेतृत्व होगा। गौरतलब है कि इससे पहले बीते गुरुवार को भी शुभेंदु अधिकारी को मंदिरों में पूजा-अर्चना करने और कीर्तन सहित धार्मिक गतिविधियों में भाग लेते पाया गया है।

    बता दें कि इसके पहले CM ममता बनर्जी ने भी अपने नामांकन भरने से पहले कई यहाँ के कई मंदिरों का दौरा किया था और पूजा भी की थी। इस पर BJP और TMC नेताओं का कहना है कि नामांकन से पहले मंदिरों में पूजा-अर्चना करना एक सामान्य बात है। 

    गौरतलब है कि नंदीग्राम का होने वाला यह अहम् सियासी महासंग्राम अब TMC और BJP दोनों के लिए ही प्रतिष्ठा का विषय बन गया है। इसका प्रधान कारण यह है कि एक ओर जहां TMC सुप्रीमो ममता बनर्जी हैं तो दूसरी कभी उनके बेहत ख़ास ,करीबी और नंदीग्राम में ही हमेशा TMC की जीत सुनिश्चित कराने वाले शुभेंदु अधिकारी ही उनके सामने खड़े हैं। यह भी बताना दिलचस्प होगा कि स्वयं शुभेंदु ने भी कई बार चुनौती दी है कि वह ममता बनर्जी को वहां से जीतने ही नहीं देंगे और करीब 50 हजार वोटों के बड़े अंतर से उन्हें हराएंगे। 

    बता दें कि 294 सदस्यीय पश्चिम बंगाल विधानसभा के चुनाव आगामी 27 मार्च से 29 अप्रैल तक आठ चरणों में पूरी होंगे। वहीं मतों की गिनती आगामी 2 मई को होने वाली है।