lion

    नई दिल्ली/मुंबई. जहाँ एक तरफ कोरोना (Corona) ने मनुष्यों (Human) के साथ साथ जानवरों (Animals) को भी काफी ज्यादा प्रभावित किया है। लेकिन वहीं इंसानों के लिए तो कोरोना की वैक्सीन (Corona Vaccine) बन गई परंतु जानवरों के लिए अभी तक ऐसा कुछ न हुआ था। हालांकि, इस दिशा में भारत को एक बड़ी नायब सफलता मिली है। जी हाँ, प्राप्त ख़बरों के अनुसार हरियाणा (Haryana) के हिसार (Hisar) में स्थित केन्द्रीय अश्व अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिकों ने पशुओं के लिए कोरोना की पहली वैक्सीन तैयार कर ली है। 

    वहीं अब अब केंद्र सरकार इस वैक्सीन को शेर और तेंदुए के ऊपर ट्रायल करने की योजना भी बना रही है। हालाँकि, 23 ‘कुत्तों’ पर पहले ही इसका जरुरी ट्रायल हो चुका है और वो इसमें सफल भी रहा है। इन डॉग्स में 21 दिनों बाद एंटीबॉडी भी विकसित हुई है।

    15 जानवरों पर होगा ट्रायल

    गौरतलब है कि गुजरात के जूनागढ़ स्थित सक्करबाग चिड़ियाघर में शेरों के प्रजनन के लिए एक नोडल सुविधा है, जिसमें 70 से अधिक शेर और 50 तेंदुए हैं। यहीं पर अब  15 जानवरों पर इस वैक्सीन का ट्रायल किया जाएगा। इसके 28 दिनों के अंतराल के साथ इस वैक्सीन का दूसरा डोज भी लगाया जाएगा।

    वहीं दूसरे डोज के देने के बाद लगभग दो महीने तक जानवरों को एंटीबॉडी कैसे विकसित हो रही है इस पर निगरानी भी रखी जाएगी। चिड़ियाघर के निदेशक अभिषेक कुमार ने कहा कि,  केंद्र से अंतिम मंजूरी मिलने के बाद वैक्सीनेशन ट्रायल भी शुरू हो जाएगा।

    15 शेरों की कोरोना से हुई थी मौत 

    पाठकों को बता दें कि, कुछ माह पहले चेन्नई के वंडालूर चिड़ियाघर में 15 शेरों की संक्रमण के कारण मौत हो गई थी। वहीं जांच में यह बात भी सामने आयी थी  कि, ये शेर डेल्टा वेरियंट से संक्रमित थे। इस वायरस के मनुष्यों से पशुओं में और फिर पशुओं से मनुष्यों में फैलने के कई अध्ययन भी हो चुके हैं।वहीं बाद में मामले की सघनता को देखते हुए केंद्र ही उद्धव सरकार ने ICAR-NRCE को जानवरों के लिए कोरोना वैक्सीन विकसित करने के निर्देश दिए थे।