File Pic
File Pic

  • टिकरी और सिंघु बॉर्डर पर शुरू किया निर्माण
  • महिलाओं और बुजुर्गों लगेंगे एसी
  • 25 का निर्माण, 2000 और बनाने का लक्ष्य

नई दिल्ली: कृषि कानूनों (Agriculture Bill) को लेकर प्रदर्शन कर रहे किसान संगठनों (Farmer Organizations) का आंदोलन लगातार जारी है। एक ओर संगठन आंदोलन को और तेज करने का ऐलान कर चुके हैं। वहीं दूसरी ओर आंदोलनकारी मनमानी पर उतर आए हैं। प्रदर्शन कर रहे किसानों ने आंदोलन स्थानों (Protest Place) पर टेंट की जगह अब पक्का निर्माण (Construction) शुरू कर दिया है। 

दरअसल, किसान संगठनों ने गर्मी से बचने के लिए दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर (Delhi-Haryana Border) स्थित आंदोलन स्थलों पर पक्का निर्माण करना शुरू कर दिया है। इसी के साथ इनमें एसी और कूलर लगाने का भी इंतजाम शुरू कर दिया है। इसी क्रम में शनिवार को कई तस्वीरें सामने आई हैं, जहां आंदोलन कर रहे किसान संगठनों ने सिंघु बॉर्डर (Singhu Border) पर स्थाई निर्माण शुरू कर दिया है। ऐसा ही निर्माण टिकरी बॉर्डर (Tikri Border) पर भी किया जा रहा है। 

बुजुर्गों और महिलाओं को रखेंगे

बीच सड़क पर हो रहे निर्माण पर भारतीय किसान यूनियन- दोआबा के अध्यक्ष मंजीत सिंह राय ने कहा, “किसान गर्मी से बचने के लिए विरोध स्थल पर घर बना रहे हैं। हम बुजुर्गों और महिलाओं के लिए एसी स्थापित करेंगे। स्थानीय एसएचओ ने उच्च अधिकारियों के दबाव को कारण बताते हुए कल कुंडली में निर्माण रोकने की कोशिश की।”

2000 घरों का करेंगे निर्माण 

आंदोलनकारियों के लिए किए जा रहे निर्माण को लेकर किसान सोशल आर्मी के अनिल मलिक ने कहा, “यह मकान उसी तरह मजबूत होंगे जैसे किसानों के हौसले हैं। अभी तक 25 मकानों का निर्माण किया जा चुका है। आने वाले समय में हम आंदोलन स्थलों पर 1000-2000 मकानों का निर्माण करेंगे।”