PINAKA
Pic: ANI

    नयी दिल्ली. दोपहर की एक बड़ी खबर के अनुसार आज भारतीय सेना असम में पिनाका और स्मर्च मल्टीपल रॉकेट लॉन्चर सिस्टम (Pinaka & Smerch multiple rocket launcher system) का प्रदर्शन किया है। दरअसल इसके पहले रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने आर्टिलरी रॉकेट सिस्टम के विकास को जारी रखते हुए बीते 24 और 25 जून 2021 को मल्टी-बैरल रॉकेट लॉन्चर (MBRL)से देश में विकसित पिनाका रॉकेट के विस्तारित रेंज संस्करण का एक बड़ा ही सफलतापूर्वक परीक्षण किया था। यह परीक्षण ओडिशा के ही चांदीपुर स्थित एकीकृत परीक्षण रेंज (ITR) से किया गया था।

    क्या है पिनाका रॉकेट सिस्टम 

    बता दें कि यह उन्नत पिनाका रॉकेट सिस्टम 45 किलोमीटर तक की दूरी पर स्थित लक्ष्य को भेद सकता है। बता दें कि यह रॉकेट सिस्टम को पुणे स्थित आयुध अनुसंधान एवं विकास प्रतिष्ठान (ARDI)और उच्च ऊर्जा सामग्री अनुसंधान प्रयोगशाला (HEMRL)द्वारा संयुक्त रूप से मेसर्स इकोनॉमिक एक्सप्लोसिव्स लिमिटेड, नागपुर के मैन्युफैक्चरिंग सहयोग के साथ विकसित किया गया है। वहीं उन्नत पिनाका प्रणाली को लंबी दूरी के लक्ष्यों को भेदने के लिए ही विकसित किया गया है। 

    कारगिल युद्ध के दौरान भी पिनाका ने मचाया था ग़दर 

    गौरतलब है कि भारत ने करगिल युद्ध में भी सफलतापूर्वक पिनाक सिस्‍टम का उपयोग किया था। इसके बाद बाकायदा पिनाक की कई रेजीमेंट्स बन गईं। कारगिल युद्ध के दौरान इस मिसाइल को ट्रक पर लोड करके ऊंचाई वाले इलाकों में भेजा गया था। पता हो कि पिनाका मूल रूप से एक बेहतरीन मल्‍टी-बैरल रॉकेट सिस्‍टम है।

    क्या है पिनाका रॉकेट सिस्टम की मारक क्षमता

    वहीं पिनाका सिस्‍टम की एक बैटरी में छह लॉन्‍च व्‍हीकल रहते हैं, साथ ही लोडर सिस्टम, रडार और लिंक विद नेटवर्क सिस्‍टम और एक कमांड पोस्‍ट भी होती है। इस एक बैटरी के जरिए ही दो किलोमीटर एरिया को पूरी तरह ध्‍वस्‍त भी किया जा सकता है। आपको यह भी बता दें मार्क-I की रेंज करीब 40 किलोमीटर है जबकि मार्क-II से 90 किलोमीटर दूर तक निशाना आराम से साधा जा सकता है। हालाँकि नया पिनाका और स्मर्च मल्टीपल रॉकेट लॉन्चर सिस्टम इसका भी बेहतर वर्शन है।