Photo Credit-Googal
Photo Credit-Googal

    लखनऊ: भले उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) की सरकार न हो लेकिन अब भी उनके दौर के काले कारनामे आये दिन सामने आते रहते हैं। नया मामला सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव की समधन अंबी बिष्ट को लेकर आया है। जो पिछले 25 साल से लखनऊ के नगर निगम कार्यालय में एक ही जगह कुंडली मार कर बैठीं थी, योगी सरकार (Chief Minister Yogi Adityanath) ने उनका अब बाराबंकी में तबादला कर दिया गया है।

    पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ( Former CM Mulayam Singh Yadav) की समधन और भाजपा नेता अपर्णा यादव बिष्ट की मां अंबी बिष्ट लखनऊ नगर निगम जोन-3 की जोनल अधिकारी के पद पर कार्य कर रहीं थीं। मजे की बात यह है कि, अंबी बिष्ट का कई बार अन्य जिले में ट्रांसफर जरुर हुआ लेकिन, अपने रसूख के कारण हर बार आदेश को धत्ता बताकर रद्द करवा दिया जाता था।

    आपको बता दें कि,  इस बार इस तबादले एक्सप्रेस के तहत मुलायम सिंह की समधन सहित नगर विकास विभाग के सहायक नगर आयुक्त से लेकर JE यानी अवर अभियंताओं समेत 186 अधिकारियों का भी तबादला किया गया है। अंबी का 2018 में भी ट्रांसफर हुआ था, लेकिन उनका ट्रांसफर रोक दिया गया था। पहले वह एलडीए में तैनात थी। उसके बाद उनको नगर निगम में पोस्टिंग दे दी गई। अंबी बिष्ट मूल रूप से नगर निकाय कर्मचारी हैं।

    आपको बता दें कि, इस बार हुए तबादले में बिहार और मध्यप्रदेश के पूर्व राज्यपाल लालजी टंडन परिवार की बिन्नो रिजवी का भी ट्रांसफर हुआ है। इसके अलावा सहायक नगर आयुक्त के अलावा 65 ईओ नगर पंचायत, ईओ श्रेणी-1 और ईओ श्रेणी-2 के अधिकारी सम्मलित है जबकि, 42 राजस्व निरीक्षक, कर अधीक्षक व कर निर्धारण के 42 अधिकारी तथा 29 सिविल और जल जेई सिविल व 6 जोनल अधिकारी सहित कुल करीब 186 अधिकारीयों का ट्रांसफर अलग-अलग विभाग में किया गया है।