File a case of attempt to murder those illegally excavating sand from Narmada: Kamal Patel

भोपाल: मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के कृषि मंत्री कमल पटेल (Agriculture Minister Kamal Patel) ने किसान आंदोलन (Farmer Protest) के समर्थन में अवार्ड वापिस (Award Return) करने वालों पर जोरदार हमला बोला है। सोमवार को पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा, “पहले भी अवार्ड वापिस हुए थे। ये जितने भी अवार्डी हैं उन्हें अवार्ड कैसे मिले हैं? भारत माता को गाली दो, देश के टुकड़े करो। ये तथाकथित बुद्धिजीवी, तथाकथित अवार्डी ये देशभक्त नहीं हैं!”

प्रदर्शन करने वाले भाजपा विरोधी

कृषि मंत्री ने कहा, “जो लोग प्रदर्शन कर रहे हैं वो भाजपा विरोधी हैं और उन्हें किसानों से कोई लेना-देना नहीं है। अगर किसानों के हित में वो होते तो वे इसका कभी विरोध नहीं करते, इसका समर्थन करते।” उन्होंने कहा, “न ही हम और न ही किसान मंडियां बंद होने देंगे। किसान कहीं नहीं जा रहे हैं। किसान भाजपा के साथ हैं वो कृषि कानूनों के साथ हैं।.”

ज्ञात हो कि किसानों के समर्थन में एक बार फिर से देश में अवार्ड वापिस करने का दौर शुरू हो गया है. पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल, विजेंदर सिंह सहित कई बड़े नेता, कवी, खिलाड़ियों ने अपने अवार्ड वापसी करने का ऐलान कर दिया है। 

ज़बरदस्ती बंद किया तो खैर नहीं 

राज्य की मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने किसानों को बंद का समर्थन किया है। इसी को देखते हुए राज्य सरकार ने सभी को सख्त चेतावनी दी है। सरकार ने आदेश जारी करते हुए कहा कि, “बंद के दौरान किसी ने भी दुकाने या अन्य को   जबरदस्ती बंद करने का प्रयास  किया तो उसकी खैर नहीं। जो यह करेगा उसके ऊपर सख्त कार्यवाही की जाएगी। 

दरअसल, पूर्व मुख्यमंत्री और वर्तमान कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने राज्य की सभी जिला इकाईयों को कल बड़े पैमाने पर प्रदर्शन करने और किसानों के समर्थन में प्रशासन को ज्ञापन देने का आदेश दिया है।