13 new patients, 521 total positive, Corona entry in Rampuri camp

मुंबई. मुंबई में कोरोना जब कंट्रोल होने की तरफ बढ़ रहा ऐसे समय मुंबई के पड़ोसी जिले ठाणे  रायगड और पालघर में कोरोना का तेजी से हो रहे  प्रसार से सबकी नींद उड़ी हुई है. मुंबई महानगर प्रदेश विकास प्राधिकरण (एमएमआर) के अंतर्गत आने वाली 9 महानगरपालिकाओं में  कोरोना का कहर मचा हुआ है. अस्पतालों और स्वास्थ्य सेवाओं की कमी का असर एमएमआर के पूरे क्षेत्र में देखने को मिल रहा है. इसका दबाव एशिया की आर्थिक रूप से सशक्त मुंबई मनपा पर पड़ रहा है. 

मुंबई में कोरोना मरीजों की संख्या 66,488 हो गई है. फिलहाल मुंबई में कोरोना मरीजों की संख्या में गिरावट दर्ज की जा रही है. मुंबई में केंद्र सरकार, राज्य सरकार के संस्थानों के अलावा प्राइवेट दफ्तरों में काम करने वाले ज्यादातर कर्मचारी एमएमआर रीजन में रहते हैं. मार्च में जब कोरोना वायरस की मुंबई में शुरुआत हुई तब एमएमआर का इलाका कोरोना के संक्रमण से बचा हुआ था. लेकिन मुंबई में कोरोना के मामले जैसे-जैसे बढ़े इसकी चपेट में पूरा एमएमआर क्षेत्र को ले लिया.आरोप लग रहा है कि मुंबई में ड्यूटी करने वालों की वजह से ही दूसरे इलाकों में कोरोना का संक्रमण फैल रहा है. मुंबई के अलावा दूसरी महानगरपालिकाओं में बड़े अस्पताल नहीं होने से से वहां के कोविड मरीजों को मुंबई में भर्ती कराना पड़ रहा है. 

ठाणे जिले के अंतर्गत आने वाली महानगरपालिकाओं जिसमें ठाणे, कल्याण-डोंबिवली, उल्हासनगर, मीरा- भायंदर, भिवंडी- निजामपुर, नवी मुंबई में कोरोना का प्रकोप बढ़ रहा है. वसई- विरार मनपा पालघर जिले के तहत है वहां भी कोराना  मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है. रायगड जिले के तहत आनेवाली पनवेल मनपा में कोरोना के रोजाना 50 से ज्यादा मरीज मिल रहे हैं. 

अंबरनाथ नगरपालिका कोरोना का हॉटस्पाट बना

इस समय ठाणे जिले का अंबरनाथ नगरपालिका कोरोना का हॉट स्पाट बन गया है. शनिवार को यहां कोराना के 131 मरीज  मिले. यहां मरीजों की संख्या 1120 हो गई है. भिवंडी, कल्याण, नवी मुंबई भी हॉटस्पाट बन चुका है. ठाणे जिले में मरीजों की संख्या 21, 558 हो गई है जिसमें 745 मरीज दम तोड़ चुके हैं. अकेले नवी मुंबई मनपा में 4841 मरीज 164 की मौत, यहां के रबाले और कोपर खैरणे में सबसे ज्यादा मरीज मिल रहे हैं.  केडीएमसी 3511 मरीज 73 की मौत, उल्हासनगर 1056 मरीज 32 की मौत हो चुकी है. ठाणे मनपा में मरीजों की संख्या 6098 और 227 मरीजों की मौत हो चुकी है. ठाणे के ही दो प्रमुख इलाके जहां कोराना के मामले शुरुआत में कोराना के सबसे ज्यादा मामले सामने आए थे, मुंब्रा – कलवा और वागले इस्टेट में कोराना कंट्रोल में आ गया है. 

वसई-विरार में बेलगाम हो रहा कोरोना

वीवीसीएमसी क्षेत्र में भी कोरोना बेलगाम हो रहा है. बीते गुरुवार को 23 नए कंटेनमेंट क्षेत्र घोषित कर  इलाकों को पूरी तरह प्रतिबंधित कर दिया है. जिसको देखते हुए अब मनपा क्षेत्र के लोगों को संक्रमित होने का भय सताने लगा है. इस क्षेत्र में पहले सप्ताह में सिर्फ एक मरीज मिले थे, वहीं 13वें सप्ताह में संक्रमित मरीजों की संख्या 432 हुई थी, जो वर्तमान के 14वें सप्ताह में बढ़कर 564 पर पहुंच गया. जिसको लेकर इस क्षेत्र में संक्रमित मरीजों का कुल आंकड़ा 2071 पर पहुंच गया है.  86 मरीजों की मौत हो चुकी है.

पनवेल के कामोठे में ज्यादा मरीज

पनवेल मनपा के अंतर्गत आने वाले पनवेल शहर, कामोठे, खांदा कालोनी, खारघर में कोराना मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है.  शनिवार तक कामोठे 385, खांडेश्वर 313, खारघर 265, कलंबोली 209, पनवेल शहर 206, उरण 190  को मिला कर कुल 1707 मरीज हो गए थे. इनमें 69 मरीजों की मौत हो चुकी है. यहां मिल रहे कोराना संक्रमित अधिकांश मरीज मुंबई में सरकारी सर्विस करने वाले और उनके परिवार के सदस्य हैं.