17 अक्टूबर  तक मुंबई सहित राज्य के कई  हिस्सों में भारी बारिश !

  • आईएमडी ने जारी की चेतावनी
  • बिजली गिरने की भी जताई आशंका

मुंबई. मानसून का सीजन खत्म होने के बाद भी इस वर्ष बरसात का कहर जारी है. मौसम विभाग के अनुसार देशभर में मौसम का मिजाज एक बार फिर बदलने जा रहा है. मानसून भले ही अपने अंतिम पड़ाव में पहुंच गया हो, लेकिन अभी पूरी तरह खत्म नहीं हुआ है. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने एक बार फिर देश के कई इलाकों में भारी बारिश को लेकर अलर्ट जारी किया है. आमतौर पर मानसून सितंबर के अंत तक पूरी तरह वापसी कर लेता है. लेकिन इस बार मानसूनी गतिविधियां कुछ दिन आगे बढ़ गई हैं. 

पश्चिम बंगल की खाड़ी में बने कम दबाव के क्षेत्र के कारण एमएमआर क्षेत्र सहित राज्य के अन्य जिलों में मूसलाधार बरसात होने की चेतावनी मौसम विभाग ने जारी की है. आईएमडी की चेतावनी के मद्देनजर राज्य सरकार ने सभी जिलों को सतर्क रहने का आदेश दिया है. गत शनिवार शाम 3 बजे से ही बरसात दोबारा लौटी और राज्य के विभिन्न इलाकों को बरसात से तरबतर कर दिया.  

कई स्थानों पर बिजली गिरने की भी खबर

आईएमडी के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि दक्षिण अंडमान और बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र तैयार होने से आंध्र प्रदेश के दक्षिण से चला रही तूफानी हवाओं का असर दक्षिण कोकण, मध्य महाराष्ट्र, मराठवाड़ा और विदर्भ में दिखाई दे रहा है. बुधवार को राज्य के कई इलाके खासकर कोल्हापुर में मूसलाधार बारिश से घरों में पानी घुस गया. कई स्थानों पर बिजली गिरने की भी खबर है.

भारी से बहुत भारी बरसात हो  सकती है

आईएमडी के अनुसार 17 अक्टूबर तक कुछ स्थानों पर बादलों की गडगडाहट और बिजली चमकने के साथ ही भारी से बहुत भारी बरसात हो  सकती है. इस वर्ष मानसून का आगमन देर से हुआ था. मुंबई में जून से ही बरसात शुरू हो जाती थी, लेकिन इस वर्ष अगस्त में बरसात हुई. दो महीने की देरी के बाद भी अगस्त और सितंबर में जम कर बरसात हुई जिस कारण से उत्पन्न हुआ पानी का संकट खत्म हो गया. हालांकि उम्मीद थी कि बरसात खत्म हो जाएगी लेकिन 10 दिन के विश्राम के बाद फिर से बरसात शुरु हो गई. डेप्यूटी डायरेक्टर के एस होसलीकर ने बताया कि 17 अक्टूबर तक पालघर, ठाणे, रायगड में  कुछ स्थानों पर तूफानी बरसात होने की संभावना है.

 राज्य सरकार एलर्ट पर

राज्य सरकार ने आईएमडी की चेतावनी के बाद सभी जिलों की एजेंसियों को मूसलाधार बरसात की संभावना के मद्देनजर सतर्क रहने का आदेश जारी किया है. आदेश में कहा गया है कि जिन इलाकों में भारी बरसात होने की संभावना जताई गई है वहां बरसात से होने वाली चुनौती से निपटने के लिए हमेशा तैयार रहें. मराठवाड़ा और मध्य महाराष्ट्र में बरसात के कारण फसलों को बहुत नुकसान पहुंचा है. रविवार को बिजली गिरने से राज्य के विभिन्न हिस्सों में 12 लोगों की मौत हो गई थी. मुंबई में भी शनिवार से रुक रुक कर बरसात हो रही है लेकिन अभी तक इसका असर सार्वजनिक यातायात के साधनों पर नहीं पड़ा है.  मुंबई, ठाणे, रायगड, पालघर में बुधवार सुबह से आसमान में कुहरा छाया रहा. शाम को 5 बजे से बरसात शुरु हो गई थी जो अब तक जारी है. दिन में बिना छतरी लिए जो काम पर गए थे उन्हें शाम को वापस लौटने में परेशानी हुई. 

डीएम ने मछुआरों को किया अलर्ट

उधर, भारतीय मौसम विभाग द्वारा अरब सागर में तेज हवाओं के साथ तूफान की चेतावनी को देखते हुए पालघर के डीएम ने 18 अक्टूबर तक मछुवारों को समुद्र में नहींं जाने की चेतावनी दी है और जो मछुवारे समुद्र में गए हैंं उन्हें वापस आने के लिए कहा गया है.  मौसम विभाग के अनुसार 16 अक्टूबर से 18 अक्टूबर तक तेज हवाओं के साथ अरब सागर में तूफान आ सकता, जिसके कारण समुद्र में ऊंची- ऊंची लहरे उठ सकती हैंं साथ ही पालघर जिले में तेज हवाओं के साथ मूसलाधार बारिश की भी संभावना है.