धार्मिक स्थलों को खोलने की मांग को लेकर अनशन

  • 13 को बीजेपी का राज्यव्यापी आंदोलन
  • प्रदेश अध्यक्ष पाटिल ने कार्यकर्ताओं को दिया निर्देश

मुंबई. महाराष्ट्र में हिंदुत्ववादी छवि को धार देने को लेकर भाजपा अब आक्रामक भूमिका अपना रही है. धार्मिक स्थलों और मंदिरों को खोलने की मांग को लेकर पार्टी के आध्यात्मिक प्रकोष्ठ ने 13 अक्टूबर को राज्यव्यापी भूख हड़ताल (अनशन)  का निर्णय लिया है. बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने पार्टी कार्यकर्ताओं से आंदोलन में सक्रिय रूप से शामिल होने का निर्देश दिया है.

बीजेपी अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने कहा है कि संतों की भूमि महाराष्ट्र में मदिरालय शुरू हो गया है, लेकिन मंदिर सहित अन्य धार्मिक स्थल बंद हैं. विविध संप्रदाय के प्रमुख, साधु-संत, महंत, धर्माचार्य सहित अनेक धार्मिक और आध्यात्मिक संगठनों ने 13 अक्टूबर को राज्यव्यापी अनशन-प्रदर्शन का निर्णय लिया है. जिसे भाजपा का पूरा समर्थन है. पार्टी के पदाधिकारी और कार्यकर्ता  इसमें सक्रिय रूप से सहभागी होंगे. 

पार्टी की तरफ से नारा भी तैयार

बीजेपी आध्यात्मिक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष आचार्य तुषार भोसले के नेतृत्व में राज्य के प्रमुख मंदिरों के सामने सुबह 10 बजे से लेकर दोपहर दो बजे तक श्रद्धालु उपवास रख कर भजन कीर्तन करेंगे. इस कार्यक्रम में साधु संत, धर्माचार्य, पुरोहित, प्रसाद एवं फूल बेचने वालों के अलावा मंदिरों से जिस किसी की भी आजीविका जुड़ी है वे सभी शामिल होंगे.पार्टी की तरफ से नारा भी तैयार किया गया है. जिसे भक्तों की तरफ से बुलंद किया जाएगा.