File Photo
File Photo

    • 16 की मौत 
    • 1,261 को मिली छुट्टी 
    • 85.67 प्रश रिकवरी रेट 
    • 21,118 एक्टिव केस 

    नागपुर. लॉकडाउन के 5 दिन पूरे होने के बाद भी कोरोना संक्रमितों की संख्या में कमी की बजाय तेजी से बढ़ती जा रही है. मंगलवार को 2,587 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी लेकिन बुधवार को एक बार फिर महाब्लास्ट हो गया. 783 संक्रमितों की बढ़त के साथ ही बुधवार को आंकड़ा 3,370 पर पहुंच गया. एक ही दिन में इतने अधिक संक्रमित तो पिछले वर्ष भी नहीं आए थे. वायरस की तीव्रता से स्पष्ट हो गया है कि अगले कुछ हफ्तों तक संक्रमण पूरी रफ्तार से बढ़ेगा.

    पिछले वर्ष सितंबर में कोरोना पूरे वेग के साथ ही लोगों को अपनी चंगुल में ले रहा था. 13 सितंबर को सबसे अधिक 2,387 लोग पॉजिटिव आये थे लेकिन इस बार सभी रिकॉर्ड तोड़कर एक ही दिन में 3,370 लोग संक्रमित हो गये. अचानक बढ़ी संख्या से डॉक्टर भी हैरान हैं. वहीं प्रशासन द्वारा नये सिरे से रोकथाम की रणनीति भी बनाई जा रही है. अब स्थिति आ गई है कि घर-घर जाकर संदिग्धों की जांच की जाए. 

    होम आइसोलेशन से बिगड़ी हालत 

    डॉक्टरों का मानना है कि होम आइसोलशेन की राहत की वजह से अचानक वायरस का प्रकोप बढ़ा है. प्रशासन द्वारा की गई सख्ती में देरी हुई है. यदि कोविड काल के नियमों के पालन की सख्ती सतत रूप से बरती जाती तो स्थिति विस्फोटक नहीं होती. अब हालत बेकाबू होने लगे हैं. हालांकि गत वर्ष की तुलना में मरने वालों की संख्या कम भले ही है, लेकिन संक्रमितों की संख्या बढ़ने से अस्पतालों में भीड़ बढ़ने लगी है. अब कोविड केयर सेंटर की संख्या बढ़ाई जाना आवश्यक हो गया है. बिना लक्षण वाले संक्रमित मरीजों को पृथक करना अनिवार्य हो गया है. अन्यथा वायरस और तेजी से लोगों को अपनी चपेट में लेगा.

     फिर गिरा रिकवरी रेट 

    इस बीच बुधवार को प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार जिले में 24 घंटे के भीतर रिकॉर्ड 15,093 लोगों की जांच की गई. इनमें सिटी में 2,668 और ग्रामीण में 699 लोग पॉजिटिव निकले. इसके साथ ही 16 मरीजों की मौत भी हो गई. अब तक कुल 4,505 लोगों की जान जा चुकी है. इस बीच 1,216 मरीजों को ठीक होने के बाद छुट्टी दी गई. इस तरह अब तक कुल 1,53,133 लोगों को छुट्टी दी जा चुकी है. फिलहाल जिले में 21,118 एक्टिव केस हैं. इनमें 6,141 मरीज विविध अस्पतालों में भर्ती हैं. मरीजों की संख्या बढ़ने की वजह से रिकवरी रेट भी गिरकर 85 ‌फीसदी हो गया है.