lockdown
File

    देवला. स्थानीय तहसील में बढ़ते कोरोना मरीजों (Corona Patients) के मद्देनजर स्थानीय तहसील में एक से 10 अप्रैल तक जनता कर्फ्यू (Janata Curfew) लगाया गया है। प्रशासन ने नागरिकों से सहयोग करने का अपील की है। पूरे राज्य की आबादी की तुलना में देवला तहसील (Devla Tehsil) में सर्वाधिक कोरोना मरीज मिले हैं। वर्तमान में 855 मरीजों पर इलाज किया जा रहा है। 

    नाशिक सहित मालेगांव में कोरोना के मरीजों को बेड उपलब्ध होना मुश्किल हो रहा है। देवला के कोरोना केयर सेंटर में बेड उपलब्ध नहीं होने के कारण आगामी समय में नागरिकों को भीषण परिणामों का सामना करना पड़ेगा इसलिए तहसील में बुधवार को देवला नगर पंचायत के सभागार में सर्वदलीय पदाधिकारी व अधिकारियों की उपस्थिति में बैठक का आयोजन किया गया।

    कर्फ्यू लागू करने से टूटेगी संक्रमण की श्रृंखला

    इस दौरान 1 से 10 अप्रैल तक तहसील में जनता कर्फ्यू लागू करने का निर्णय किया गया। विगत वर्ष में जनता कर्फ्यू के कारण तहसील में कोरोना के मरीजों की संख्या में गिरावट आई थी, जिसे ध्यान में रखते हुए इस बार भी कोरोना संक्रमण की श्रृंखला तोड़ने के लिए जनता कर्फ्यू लगाने का निर्णय लेने की बात करते हुए प्रशासन ने नागरिकों को सहयोग करने की अपील की है। कर्फ्यू के दौरान पूर्व की तरह जरुरी सेवाएं जारी रहेंगी।

    भाजपा जिलाध्यक्ष समेत कई नेता रहे मौजूद

    इस दौरान भाजपा जिलाध्यक्ष केदा आहेर, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रांतिक सदस्य योगेश आहेर, शिवसेना के शहर प्रमुख मनोज आहेर, उप नगराध्यक्ष अतुल पवार, गटनेता अशोक आहेर, जितेंद्र आहेर, लक्ष्मीकांत आहेर, सामाजिक कार्यकर्ता राजेश आहेर, राष्ट्रवादी युवक कांग्रेस के शहराध्यक्ष संतोष शिंदे, विलास आढाव, सचिन पाटिल, सोमनाथ वराडे सहित तहसीलदार दत्तात्रय शेजुल, तहसील स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. सुभाष मांडगे, नगर पंचायत के मुख्याधिकारी संदीप भोले, गट विकास अधिकारी राजेश देशमुख, पुलिस निरीक्षक सुहास देशमुख आदि उपस्थित रहे।