Bhujbal

नाशिक. नाशिक में कोरोना रोगियों की संख्या फिर से बढ़ रही है। अगर हम 19 नवंबर के बाद देखें तो 19 नवंबर से कोरोना के मरीजों की संख्या में 1200 की वृद्धि हुई है। आज जिले में 3200 कोरोना रोगियों का इलाज चल रहा है। यह चिंता का विषय है और कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए प्रशासन विभिन्न उपाय कर रहा है। 

जिला पालकमंत्री छगन भुजबल ने संकेत दिया कि यदि नागरिकों से अपेक्षित सहयोग नहीं मिलने के कारण लापरवाही जारी रहेगी तो प्रशासन को मजबूर होकर एक बार फिर से सख्त प्रतिबंध लगाना पड़ेगा और हम नहीं चाहते के नागरिकों को फिर एक बार लॉकडाऊन की पीड़ा झेलनी पड़े। 

रविवार को जिला कलेक्टर कार्यालय में भुजबल की उपस्थिति में कोरोना की दूसरी लहर के विषय पर बोल रहे थे। इस अवसर पर भुजबल ने कहा कि सितंबर के महीने में जिले में सबसे अधिक 10,800 कोरोना संक्रमित मरीज थे। लेकिन धीरे-धीरे मरीजों की संख्या कम होती गई। नवंबर में लगभग 2500 कोरोना रोगी पाए गए। दिवाली के बाद रोगियों की संख्या फिर से बढ़ रही है। वर्तमान में जिले में 3200 मरीजों का इलाज चल रहा है। वेंटिलेटर पर मरीजों की संख्या बढ़ रही है। इसी तरह ऑक्सीजन बेड पर मरीजों की संख्या बढ़ रही है। मरीजों को असुविधा से बचने के लिए प्रशासन द्वारा सभी उपाय किए गए हैं। नागरिकों ने प्रशासन विनंती करता है कि जहां तक हो सके सावधानी बरतें। कोरोना को नाशिक शहर और जिले से खत्म करने के लिए प्रशासन का सहयोग करें। ऐसा ना हो कि प्रशासन को फिर एक बार कड़ा लॉकडाऊन लगाना पड़े.