चिट फंड घोटाले में ‘समृद्ध जीवन’ के 2 निदेशक गिरफ्तार

पुणे. करोड़ों रुपये के चिट फंड घोटाले में सीआईडी (क्राइम इन्वेस्टिगेशन डिपार्टमेंट) ने पुणे के समृद्ध जीवन फूड्स प्राइवेट लिमिटेड के 2 निदेशकों को गिरफ्तार किया है. सीआईडी द्वारा इस चिट फंड घोटाले के 4 मामलों की जांच कर रही है, जिसमें समृद्ध जीवन फूड्स इंडिया और समृद्ध जीवन मल्टी-को-ऑपरेटिव सोसाइटी शामिल है.सीआईडी ने पुणे में 2 फरार निदेशकों हृषिकेश कनासे और सुप्रिया कनासे को गिरफ्तार किया.दोनों को यहां एक अदालत में पेश किया गया जिसके बाद उन्हें 7 दिनों की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया.

निवेशकों को धोखा देने का आरोप

समृद्ध जीवन फूड्स इंडिया पर फर्जी योजनाओं में ऊंचे लाभ का वादा कर निवेशकों को धोखा देने का आरोप है. सीआईडी के अनुसार, कुल घोटाला 3500 करोड़ रुपये का है और कंपनी के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक महेश मोतेवार और उनकी पत्नी वैशाली मोतेवार सहित 25 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है.इनमें मोतेवार परिवार के कुछ अन्य सदस्यों और कंपनी के कुछ अधिकारियों को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है. उनमें महेश मोतेवार, उसकी पत्नी लीना मोतेवार, वैशाली मोतेवार, सुवर्णा मोतेवार, अभिषेक मोतेवार, प्रसाद पारसवार, विशाल चौधरी का समावेश है.

कई राज्यों में अपराध पंजीकृत 

समृद्ध जीवन कंपनी के खिलाफ कई राज्यों में अपराध पंजीकृत है.समृद्ध जीवन फूड्स प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के मालिक महेश मोतेवार ने निवेशकों को ज्यादा ब्याज देने का लालच दिखाकर फिक्स डिपॉजिट कराते थे.इस तरह 3500 करोड रुपये एकत्रित किया और निवेशकों को पैसा वापस नहीं लौटाया. 

अब तक 233 करोड 33 लाख की चल-अचल संपत्ति जब्त 

इन पैसों से महेश मोतेवार ने देहूगांव के पास एक कालेज में करोडों रुपये निवेश किया, पुणे में होटल, हॉस्पिटल खरीदा. सीआईडी अब इस दिशा में भी जांच कर रही है कि पैसा कहां कितना निवेश किया है. जिनकी संस्था में पैसा निवेश किया गया वो भी सीआईडी के रडार पर है. अब तक 233 करोड 33 लाख की चल अचल संपत्ति जब्त की गई है.