Asteroid-af8
Representational Image

    वाशिंगटन: धरती की ओर एक विशाल ऐस्टरॉइड (Asteroid) बहुत तेजी के साथ बढ़ रहा है। इस ऐस्टरॉइड का आकार किसी फुटबॉल के मैदान जितना है। यह एक अपोलो श्रेणी का ऐस्टरॉइड है। यही कारण है कि नासा के वैज्ञानिक लगातार इस ऐस्टरॉइड 2021 AF8 (Asteroid 2021 AF8) पर पैनी नजर बनाए हुए हैं। वैज्ञानिकों का कहना है कि यह विशाल ऐस्टरॉइड 4 मई को पृथ्वी के पास से गुजरेगा।

    नासा द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक अंदाजा है कि यह ऐस्टरॉइड 260 से लेकर 580 मीटर के आकार का हो सकता है। इस ऐस्टरॉइड का पता वैज्ञानिकों को सबसे पहले मार्च महीने में चला था। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी के हिसाब से अंतरिक्ष में पृथ्वी के पास से गुजरे अन्‍य बड़े ऐस्टरॉइड की तुलना में 2021 एएफ 8 बेहद छोटा परंतु काफी खतरनाक है। यह ऐस्टरॉइड 9 किमी प्रति सेकंड की गति से धरती के पास से गुजर रहा है।

    अगले 100 सालों तक NASA रखेगा नजर

    वैज्ञानिकों द्वारा मिली जानकारी के मुताबिक 2021 एएफ8 करीब 34 लाख किलोमीटर की दूरी से सुरक्षित गुजर सकता है। इस वजह से अंतरिक्ष विज्ञानी इस पर बारीकी से नजर जमाए हुए हैं। नासा द्वारा इस ऐस्टरॉइड को खतरनाक ऐस्टरॉइड की श्रेणी में रखा गया है। आने वाले अगले 100 सालों में फिलहाल ऐसे 22 ऐस्टरॉइड्स हैं जो शायद पृथ्वी से टकरा सकते है।

    ऐस्टरॉइड्स का मतलब  

    ऐस्टरॉइड एक तरह की चट्टान होती है जो सूरज के चक्कर काटती है किंतु आकार में ग्रहों से काफी छोटी होती है। हमारी सौर मंडल में ज्यादातर ऐस्टरॉइड्स मार्स और जुपिटर कक्षा में ऐस्टेरॉइड बेल्ट में पाए जाते हैं। यह दूसरे ग्रहों की कक्षा में भी भ्रमण करते रहते हैं। ऐस्टेरॉइड करीब 4.5 अरब साल पहले बने थे। गैस और धूल के ऐसे बादल जो किसी प्लेनेट का आकार नहीं ले सके ऐस्टरॉइड्स बन गए।