जानें कौन है रेवंत रेड्डी- जेल की सलाखों से लेकर मुख्यमंत्री की कुर्सी तक का सफर

Loading

मुंबई: अनुमुला रेवंत रेड्डी इस चुनाव से पहले तक तेलंगाना में केवल एक ऐसा नाम था, जो राज्य की सत्ताधारी पार्टी के लिए केवल विरोध के लिए विरोध का प्रतीक था। ना तो पार्टी उन्हें गंभीरता से लेने के लिए तैयार थी और ना ही जनता। लेकिन इस चुनाव ने ना केवल निवर्तमान मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव को बल्कि जनता को भी एहसास करवा दिया कि अगर कोशिश की जाए तो अकेला चना भी भाड़ फोड़ सकता है। इस चुनाव में रेवंत रेड्डी की कोशिशों के कारण सत्ता में पहुंची कांग्रेस खुद भी इस अप्रत्याशित सफलता से हैरान है और इस जीत का पूरा श्रेय रेवंत रेड्डी को इनाम स्वरुप मुख्यमंत्री की कुर्सी के रूप में दे रही है।

जेल भी जा चुके हैं रेवंत रेड्डी

चुनाव से पहले तक रेवंत रेड्डी मुख्यमंत्री KCR के निशाने पर रहे हैं। उनके खिलाफ दर्ज 89 मामले यही साबित करते हैं कि उनके पीछे सरकारी मशीनरी केवल आपराधिक धाराएं ढूंढने का काम करती थी। रेवंत के खिलाफ BRS सरकार ने कई मामले दर्ज किए। उन्हें गिरफ्तार किया गया, जेल भी भेजा था।

 पुलिस ने सात बार किया नजरबंद

रेड्डी के खिलाफ पहली कार्रवाई दिसंबर 2018 में हुई, जब केसीआर की कोडंगल यात्रा के खिलाफ विरोध प्रदर्शन का आह्वान करने के बाद उन्हें मूल कोडंगल में उनके घर से गिरफ्तार किया गया था। पुलिस उनके बेडरूम का दरवाजा तोड़कर अंदर दाखिल हुई, उस वक्त कमरे में उनकी पत्नी और बेटी भी मौजूद थीं। उन्हें सात बार नजरबंद किया गया। जब भी वे विरोध करने की योजना बनाते थे, चाहे वह भ्रष्टाचार का मुद्दा हो या किसानों का मुद्दा, जमीन हड़पने का मुद्दा हो या फिर युवाओं की नौकरियों का मुद्दा, पुलिस उन्हें घर पर ही रोक देती थी।

राहुल गांधी के करीब ले आई भारत जोड़ो यात्रा

केसीआर के रवैयों से परेशान रेवंत रेड्डी ने ने 08 साल पहले कसम खाई थी कि मेरे जीवन का उद्देश्य केसीआर को गद्दी से उतारना और उनके परिवार को राजनीति से खत्म कर देने का है। ये काम उन्होंने केवल तीन साल के भीतर किया। भारत जोड़ो यात्रा रेवंत को राहुल गांधी के करीब ले आई। राहुल गांधी उनकी सांगठनिक क्षमता से काफी प्रभावित हुए। तब से ही तेलंगाना की राजनीति में उनका कद बढ़ गया। चुनाव में उन्हें महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी गई जिस पर वो खरे उतरे। राहुल गांधी के साथ कांग्रेस हाईकमान ने भी स्पष्ट कर दिया है कि रेवंत रेड्डी ही तेलंगाना में कांग्रेस के सीएम होंगे। रेवंत रेड्डी ने आज तेलंगाना के नए सीएम के रूप में शपथ ली। इस शपथ समारोह में सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी समेत कई वरिष्ठ नेता मौजूद रहे।