The progress of athletes at the High Performance Center of Odisha will be assessed by performance-graded races

भुवनेश्वर: ओडिशा सरकार (Orissa Government) और रिलायंस फाउंडेशन (Reliance Foundation) के सहयोग से चल रहे ओडिशा एथलेटिक्स उच्च प्रदर्शन केंद्र के 29 नवोदित एथलीटों के लिए आकलन खास तरह के ‘प्रदर्शन-वर्गीकृत दौड़’ के आधार पर होगा जिसमें आयु और लिंग समूह के आधार पर विभाजन नहीं किया जाएगा। इस तरह प्रतियोगिता इस केन्द्र के मुख्य कोच जेम्स हिलियर के दिमाग की उपज है।

हिलियर का मानना है कि इस तरह की दौड़ में 13 से 17 वर्ष की आयु के बीच के एथलीटों को भाग लेने की अनुमति होगी जिसमें वे प्रतिस्पर्धात्मकता का सर्वश्रेष्ठ तरीके से अनुभव करेंगे। इसमें उन्हें समय के आधार पर अलग किया जाएगा।

हिलियर ने कहा, ‘‘ उम्मीद है कि इससे एथलीटों को व्यक्तिगत प्रतिद्वंद्विता में ध्यान नहीं बटेगा। इसके साथ ही वे सिर्फ अपने संबंधित आयु वर्ग की दौड़ जीतने की जगह अपने स्वयं के सर्वश्रेष्ठ व्यक्तिगत प्रदर्शन पर ध्यान केंद्रित करेगे।”

ब्रिटेन के इस पूर्व एथलीट ने कहा, ‘‘ ऐसे में हम खराब प्रदर्शन के साथ रेस जीतने की जगह देखेंगे कि एथलीट अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के साथ पांचवें स्थान पर रहेगा।” तीन चरणों में चलने वाली यह प्रतियोगिता मध्यम और लंबी दूरी के धावकों के लिए यहां के कलिंगा स्टेडियम में बायो-बबल (जैव सुरक्षित) माहौल में शुरू हुआ। दूसरा और तीसरा चरण क्रमश 28 और 31 अक्टूबर को होगा जबकि फाइनल आठ नवंबर को होगा।