virat-kohli

    कानपुर. बल्लेबाजी कोच विक्रम राठौड़ (Vikram Rathod) पूरी तरह समझते हैं कि चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) और अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) ऐसे भारतीय खिलाड़ी हैं जो अपने टेस्ट करियर (Test Career) के अंतिम पड़ाव पर हैं। लेकिन पूर्व सलामी बल्लेबाज रविवार को कोई निश्चित जवाब नहीं दे सके कि न्यूजीलैंड के खिलाफ अगले टेस्ट में कप्तान विराट कोहली के लौटने पर कौन सा खिलाड़ी अंतिम एकादश से बाहर होगा। श्रेयस अय्यर के पदार्पण टेस्ट में 105 और 65 रन बनाने के बाद इस मुंबई के खिलाड़ी को बाहर नहीं रखा जा सकेगा जिससे जाहिर है राठौड़ को तीन दिसंबर से शुरू होने वाले मुंबई टेस्ट से पहले पुजारा और रहाणे की फॉर्म के बारे में सवालों का सामना करना पड़ा।

    उन्होंने कहा, ‘‘निश्चित रूप से आप शीर्ष क्रम से योगदान चाहते हो लेकिन जिन क्रिकेटर (पुजारा और रहाणे) का आपने जिक्र किया, वे 80 (रहाणे 79) और 90 टेस्ट (पुजारा 91 टेस्ट) खेल चुके हैं। ”

    राठौड़ ने कार्यवाहक कप्तान रहाणे (19.57) के 20 से कम और उप कप्तान पुजारा के 30.42 के 2021 टेस्ट औसत का बचाव करते हुए कहा, ‘‘निश्चित रूप से इतने सारे मैच खेलकर उन्होंने हमारे लिये अच्छा किया होगा। ” उन्होंने कहा, ‘‘हम समझते हैं कि दोनों इस समय खराब दौर (फॉर्म) से गुजर रहे हैं लेकिन हम समझते हैं कि बीते समय में वे हमारे लिये बहुत बहुत महत्वपूर्ण पारियां खेल चुके हैं। हमें पूरा भरोसा है कि वे वापसी करेंगे और हमारे लिये महत्वपूर्ण पारियां खेलेंगे। ”

    लेकिन एक खिलाड़ी को फॉर्म में वापसी के लिये कितने टेस्ट दिये जा सकते हैं 15 या 20? तो उन्होंने कहा कि इसके लिये संख्या निश्चित नहीं की जा सकती। उन्होंने कहा, ‘‘मुझे नहीं लगता कि आप इसके लिये संख्या निश्चित कर सकते हो। यह निर्भर करता है कि किस स्थिति में है और टीम को क्या करने की जरूरत है। ”

    तो यह पूछने पर कि कोहली के आने के बाद मुंबई टेस्ट के लिये किसे बाहर किया जायेगा? उन्होंने कहा, ‘‘कप्तान वापसी कर रहा है, यह अगले मैच में होगा, जब हम मुंबई पहुंचेंगे, इस पर फैसला करेंगे। अभी ध्यान इस मैच पर है, इसमें एक दिन बचा है और मैच जीतना होगा। जब मुंबई पहुंचेंगे, तब इस पर बात करेंगे। ” (एजेंसी)