अंपायर फ्रेड गुडाल (Photo Credits-Twitter@ BLACKCAPS)
अंपायर फ्रेड गुडाल (Photo Credits-Twitter@ BLACKCAPS)

    वेलिंगटन: न्यूजीलैंड के क्रिकेट अंपायर फ्रेड गुडाल का निधन हो गया है। वह न्यूजीलैंड और वेस्टइंडीज के बीच 1980 में विवादास्पद टेस्ट श्रृंखला का हिस्सा थे। गुडाल 83 बरस के थे।उनके निधन की घोषणा मंगलवार को न्यूजीलैंड क्रिकेट (एनजेडसी) ने की लेकिन इसका कारण नहीं बताया। गुडाल ने 1965 से 1988 के बीच 24 टेस्ट और 15 एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों में अंपायरिंग की। उन्हें वेस्टइंडीज के खिलाफ फरवरी 1980 में क्राइस्टचर्च के लेंकास्टर पार्क में विवादास्पद दूसरे टेस्ट के लिए जाना जाता है। इस मैच में वेस्टइंडीज के तेज गेंदबाज कोलिन क्रॉफ्ट ने उन्हें टक्कर मार दी थी। ऐसा लगा था कि क्रॉफ्ट ने यह जानबूझकर किया लेकिन इस तेज गेंदबाज ने हमेशा कहा कि ऐसा दुर्घटनावश हुआ था।

    कप्तान क्लाइव लॉयड की अगुआई में वेस्टइंडीज की टीम विश्व क्रिकेट की सुपरस्टार थी और आस्ट्रेलिया के पहली बार टेस्ट श्रृंखला जीतने के बाद तीन टेस्ट और एक वनडे खेलने न्यूजीलैंड आई थी। न्यूजीलैंड ने एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय और पहला टेस्ट दोनों एक विकेट से जीते। गुडाल ने दोनों मैचों में अंपायरिंग की और वेस्टइंडीज के खिलाड़ियों का मानना था कि उनके खिलाफ कई अनुचित फैसले हुए।

    पहले टेस्ट की दूसरी पारी में वेस्टइंडीज के तेज गेंदबाज माइकल होल्डिंग ने स्टंप को लात मारकर गिरा दिया जब जॉन पार्कर के खिलाफ उनकी अपील को नकार दिया गया। दूसरे टेस्ट में वेस्टइंडीज की नाराजगी और बढ़ गई जब उन्हें लगा कि अंपायरों के काफी अधिक फैसले उनके खिलाफ जा रहे हैं। तीसरे दिन चाय के विश्राम के बाद मेहमान टीम ने ड्रेसिंग रूम से बाहर आने से इनकार कर दिया और कहा कि गुडाल को हटाए जाने पर ही वे मैदान पर उतरेंगे।

    न्यूजीलैंड के कप्तान ज्यौफ होवार्थ ने हालांकि मेहमान टीम को मैदान पर उतरने के लिए मनाया लेकिन दिन का खेल खत्म होने के बाद वेस्टइंडीज के खिलाड़ियों ने अपना सामान बांधना शुरू कर दिया। वे स्वदेश लौटना चाहते थे। वेस्टइंडीज क्रिकेट बोर्ड के हस्तक्षेप के कारण हालांकि वे वापस नहीं लौटे। चौथे दिन गुडाल ने क्रॉफ्ट के खिलाफ कई नोबाल दी और रिचर्ड हैडली के खिलाफ विकेट के पीछे कैच की उनकी अपील भी खारिज कर दी। अगली गेंद करने के लिए दौड़ते हुए क्रॉफ्ट ने गेंद फेंकने से पहले गुडाल को जोरदार टक्कर मार दी। गुडाल ने 2006 में साक्षात्मकार में कहा था कि यह टक्कर पीड़ादायक थी।

    गुडाल ने कहा था, ‘‘मैं स्तब्ध था।”उन्होंने कहा कि जब वेस्टइंडीज के कप्तान ने हस्तक्षेप नहीं किया तो वे निराश महसूस कर रहे थे। गुडाल ने कहा कि क्रॉफ्ट ने उन्हें कहा था कि वह क्रिकेट के बारे में कुछ नहीं जानते। (एजेंसी)