सदी का वो करिश्माई गेंदबाज, जिसने डाली जादुई ‘बॉल ऑफ द सेंचुरी’

    ऑस्ट्रेलियाई टीम के महान स्पिनर शेन वॉर्न (Shane Warne Birthday) का आज यानी 13 सितंबर को जन्मदिन है। इस साल वह अपना 52वां बर्थडे सेलिब्रेट कर रहे हैं। शेन वॉर्न एक बेहतरीन गेंदबाज हुआ करते थे, इसलिए उन्हें एक महान गेंदबाज का दर्जा दिया गया है। शेन वॉर्न सदी की सबसे बेहतरीन गेंद (Ball of the Century) डालने के लिए भी मशहूर हैं।

    टेस्ट में 37 बार झटके 5 विकेट

    शेन वॉर्न बेहतरीन लेग स्पिनर थे। उन्होंने कुल 145 टेस्ट मैच खेले। उनका बेस्ट रहा 71 रन देकर आठ विकेट लेने का। उन्होंने टेस्ट पारी में 37 बार 5 या उससे ज्यादा विकेट लेने में कामयाब रहे हैं। वहीं टेस्ट मैच में 10 बार 10 विकेट या उससे ज्यादा विकेट उनके नाम रहे हैं।

    टेस्ट में 700 विकेट चटकाए, नंबर 2 पर हैं वॉर्न 

    शेन वॉर्न टेस्ट क्रिकेट में 700 टेस्ट विकेट हासिल करने वाले ऑस्ट्रेलिया के पहले गेंदबाज हैं। वहीं दुनिया में उनका स्थान दूसरे नंबर पर आता है। उनसे पहले मुरलीधरन का नाम इस क्लब में शामिल है। शेन वॉर्न के नाम 708 विकेट है, जबकि श्रीलंका के मुथैया मुरलीधरन के नाम 800 विकेट हैं।

    वार्न की बॉल ऑफ द सेंचुरी

    ऑस्ट्रेलियाई लेग स्पिनर शेन वॉर्न द्वारा फेंकी गई सदी की सबसे बेहतरीन गेंद यानी बॉल ऑफ द सेंचुरी की बात करें तो वार्न ने मैदान पर अपना ऐसा जादू बिखेरा था, जिसकी दुनिया आज भी कायल है। 1993 में इंग्लैंड के खिलाफ एशेज सीरीज के दौरान उन्होंने एक ऐसी गेंद फेंकी थी, जिसको अगर आज भी देखा जाए तो आप उसे असाधारण गेंद ही बोलेंगे। या फिर कुछ लोग इसे चमत्कार से कम नहीं बताएंगे, क्योंकि आमतौर पर क्रिकेट में ऐसा देखना किसी अजूबे से कम नहीं है। 

    दरअसल, 4 रन पर बल्लेबाजी कर रहे माइक गेटिंग को शेन वार्न ने एक ऐसी गेंद डाली, जिसे बॉल ऑफ द सेंचुरी कहा गया था। क्योंकि वार्न ने गेंद को लेग स्टंप के काफी बाहर पिच कराया था और गेंद ने इतना टर्न लिया कि माइक गेटिंग के ऑफ स्टंप्स को जा टकराई और वह आउट हो गए। इस तरह की गेंदबाजी को देख हर कोई हैरान रह गया था। 

    भारत के खिलाफ डेब्यू, इंग्लैंड के खिलाफ आखिरी मैच  

    वॉर्न ने 1992 में सिडनी के मैदान पर भारत के खिलाफ अपने टेस्ट करियर की शुरुआत की थी। जबकि इंग्लैंड में 2006-07 की एशेज सीरीज में उन्होंने अपने करियर का 145वां टेस्ट मैच खेलकर संन्यास का ऐलान कर दिया था।