Delhi AIIMS
File Photo

    नई दिल्ली: दिल्ली एम्स सर्वर हैकिंग मामले (Delhi AIIMS Server Hacking Case) में अभी तक कोई सुराख हाथ नहीं लगा है। समाचार एजेंसी ANI के अनुसार दिल्ली पुलिस (Delhi Police) सूत्रों का कहना है कि जिस सर्वर को हैक किया गया था उसे जांच के लिए सेंट्रल फॉरेंसिक साइंस लैब (CFSL) भेजा गया है। CFSL की दिल्ली और अहमदाबाद की टीमें इसकी जांच कर रही हैं। अभी तक हैकिंग के सोर्स का पता नहीं चला है। 

    बता दें कि एम्स की शिकायत पर दिल्ली पुलिस ने केस दर्ज कर लिया था। इस मामले को दिल्ली पुलिस की इंटेलिजेंस फ्यूजन एंड स्ट्रैटजिक ऑपरेशन (IFSO) यूनिट को सौंप दिया गया था। जब हैकिंग की संभावना सामने आई थी तुरंत साइबल सेल (y Cyble Cell) को सूचित किया गया और मामले की जांच शुरू कर दी गई।

    बता दें कि  दिल्ली एम्स का सर्वर 23 नवंबर की सुबह से डाउन हुआ था। जब 24 घंटे बाद भी सर्वर ठीक नहीं हो पाया तो एम्स के अधिकारियों ने इसकी जानकारी दिल्ली पुलिस को दी थी। जिसके बाद मामले की जांच शुरू की गई। बाद में पता चला की दिल्ली एम्स का सर्वर हैक हो गया है।  

    फिलहाल दिल्ली पुलिस का कहना है कि अभी तक हैकिंग के सोर्स का पता नही लग पाया है। सर्वर हैक कैसे हुआ इसकी आधिकरिक तौर पर जांच दिल्ली पुलिस कर रही है और अनौपचारिक तौर पर एनआईए भी एम्स जाकर जांच में शामिल हुई है। सर्वर हैकिंग भारत से हुई है या विदेश से इस पहलू पर भी जांच एजेंसियां काम कर रही हैं।