maharsahtra-rain
Pic: Twitter

    • रविवार की शाम भी पड़े बारिश के छींटे
    • उमस में कोई कमी नहीं आई

    अकोला. शनिवार की देर शाम तथा रात तक चली तेज बारिश के कारण मौसम में काफी परिवर्तन हुआ है. इसी तरह रविवार की शाम भी अनेक क्षेत्रों में बारिश के छींटे पड़ने से मौसम कुछ ठंडा हुआ है. फिर भी रविवार की दोपहर बीच बीच में तेज धूप निकलती रही है और बीच बीच में मौसम बदरीला देखा गया है जिसकी परिणति शाम को बारिश के छींटों में देखी गयी है. फिर भी जहां एक ओर बाहर हवा में थोड़ी ठंडक महसूस की जा रही है वहीं लोगों के घरों के अंदर अभी भी उमस है. लोगों का कहना है कि जब इस तरह की तीन चार बारिशें होंगी उसके बाद ही उमस से कुछ राहत मिल सकेगी. 

    24 घंटों में 44.8 मि.मी. बारिश

    जिले भर में 24 घंटों में 44.8 मि.मी. बारिश दर्ज की गयी है. इसी कारण से मौसम में थोड़ी ठंडक महसूस की जा रही है. आज तापमान भी काफी नीचे आ गया है. आज अधिकतम तापमान 35 डिसे दर्ज किया गया है. जहां कुछ दिनों से तापमान 43 से 44 डिसे के बीच चल रहा था वहां तापमान नीचे आने से लोगों ने काफी राहत की सांस ली है. 

    अनेक क्षेत्रों में हुआ नुकसान

    शनिवार की शाम अचानक हुई तेज बारिश के कारण अनेक क्षेत्रों में नुकसान होने की जानकारी मिली है. जानकारी के अनुसार शिवनी शिवापुर रेलवे मालधक्के पर सीमेंट तथा खाद के काफी बैग जो कि वहां रखे हुए थे बारिश के कारण खराब होने की जानकारी मिली है. जानकारी मिलते ही सांसद संजय धोत्रे की सूचना के अनुसार विधायक रणधीर सावरकर ने यह जानकारी केंद्रीय रेल मंत्री अश्विनी कुमार वैष्णव को दी. उन्होंने उन्हें बताया कि रेलवे मालधक्के में शेड न होने के कारण यह नुकसान हुआ है.

    विधायक रणधीर सावरकर ने इस बारे में रेलवे के डीआरएम से भी संपर्क स्थापित किया. जानकारी के अनुसार एमआईडीसी एसो. के नितिन बियाणी, मालू, केशव खटोड़ ने रेलवे शेड को लेकर विधायक सावरकर को जानकारी दी थी. इस बारे में रेलवे अधिकारियों ने निरीक्षण कर लिया है. इसी तरह यहां पर रेलवे द्वारा शेड बनाकर व्यापारियों की समस्या हल किए जाने की जानकारी विधायक रणधीर सावरकर ने दी है. 

    केले की फसल का नुकसान

    शनिवार को अचानक हुई तेज बारिश के कारण अकोट तथा आस पास के क्षेत्रों में केले की फसलों का नुकसान होने की जानकारी मिली है. इसी तरह कुछ क्षेत्रों में आम की फसल का भी नुकसान हुआ है. कुछ जगह सब्जी की फसलें भी प्रभावित हुई हैं. इसका मुख्य कारण यह था कि बारिश बहुत तेज थी. कुछ क्षेत्रों में तेज हवाएं भी चली हैं. 

    बुआई के कामों में तेजी

    अब खरीफ फसलों की बुआई के कार्यों में तेजी देखी जाएगी. जिले भर में करीब 4 लाख 86 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में बुआई होगी. अब किसानों को इंतजार है और समुचित बारिशों का. दो तीन अच्छी बारिशों के बाद ही किसान खरीफ फसलों की बुआई शुरू कर सकेंगे. 

    शहर में अनेक स्थानों पर पानी भरा

    स्थानीय डाबकी रोड पर बारिश का पानी जमा हो जाने से यातायात कुछ समय के लिए रूक गया था. इसके अलावा भी डाबकी रोड से लगी हुई अनेक बस्तियों में बारिश का पानी जमा हो जाने से लोगों को आवागमन में काफी तकलीफ का सामना करना पड़ा. इसी तरह की परिस्थिति शहर के अन्य कई क्षेत्रों में भी देखी गयी है. शहर की अनेक सड़कों पर बारिश के पानी की निकासी की व्यवस्था न होने के कारण हर बारिश के मौसम में यह समस्या निर्माण होती है. इसी तरह शहर के अनेक क्षेत्रों में बिजली की आंख मिचौली के कारण लोगों को काफी असुविधा और तकलीफ हुई है. 

    अकोट में ओलावृष्टि

    शनिवार की शाम अकोट में तेज बारिश के साथ साथ कुछ स्थानों पर हल्की ओलावृष्टि के भी समाचार हैं. इसी तरह तेज हवाओं के कारण कुछ घरों के टीनशेड उड़ने की भी जानकारी मिली है. शहर के सराफ बाजार में एक इमारत की गैलरी का हिस्सा गिरा है लेकिन सौभाग्य से प्राणहानि नहीं हुई है. कुछ क्षेत्रों में तेज हवाओं के कारण बिजली के पोल गिर जाने से बिजली बंद रहने की जानकारी मिली है. अकोट शहर में एक कार पर पेड़ गिर जाने से भी नुकसान हुआ है. कुछ स्थानों पर मवेशियों के मौत की भी जानकारी मिली है. कुछ जगह अचानक पेड़ गिरने से कुछ गांवों में जानेवाले रास्तों पर यातायात भी प्रभावित हुआ है.