property tax

    अमरावती.  महानगर पालिका का टैक्स वसूली विभाग जो पूरे वर्ष भर कुछ नहीं कर पाया, वह आगामी 60 दिनों में बकाया 30 करोड़ की वसूली कैसे करेगा, यह यक्ष प्रश्न बन गया है. अब तक केवल 23.77 करोड़ की वसूली ही टैक्स वसूली विभाग कर पाया है. अभी भी 45 प्रतिशत से अधिक मतलब 30 करोड़ रुपए का संपत्ति टैक्स बकाया है. जिसके लिए टैक्स विभाग की सुस्त चाल ही जिम्मेदार है. पूरा पेमेंट लेकर भी अधूरा काम करने की लत अधिकारियों-कर्मियों के लगी हैं. जिसका सटीक इलाज करने की जिम्मेदारी अब निगमायुक्त डा. आष्टीकर पर है. 

    जब्ती की कार्यवाही के निर्देश

    मनपा आयुक्त ने सभी सहायक आयुक्तों को संपत्ति कर की वसूली में तेजी लाने और संपत्ति कर का प्रतिशत बढ़ाने के सख्त निर्देश दिये. सहायक आयुक्त द्वारा दैनिक वसूली की जानकारी एकत्रित कर तुरंत रिपोर्ट प्रस्तुत करने व संपत्ति कर के बकाया का भुगतान न करने की स्थिति में ऐसे संपत्ति धारकों के खिलाफ जब्ती की कार्यवाही शुरू करने के निर्देश आयुक्त प्रवीण आष्टीकर ने दिए है. 

    प्रशासनिक कार्रवाई के संकेत 

    मनपा अंतर्गत सभी 5 जोन कार्यालयों को संपत्ति कर वसूली का लक्ष्य पुर्ण करने के आदेश निगमायुक्त के है. दिए गए लक्ष्य की पूर्ति नहीं करने वाले जोनल कार्यालयों के खिलाफ प्रशासनिक कार्रवाई की जाएगी. संपत्ति कर वसूली ही मनपा की आय का सबसे महत्वपूर्ण स्रोत है और इसमें किसी भी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी. ऐसी जानकारी निगमायुक्त आष्टीकर ने दी. 

    जोन वार वसूली शिविर 

    मनपा अंतर्गत सभी 5 जोन वार प्रत्येक शनिवार और रविवार को संपत्ति कर शिविर का आयोजन किया जा रहा है. जिन नागरिकों पर 31 जनवरी 2022 तक संपत्ति कर बकाया है, यदि वे अपनी संपत्ति कर की बकाया राशि के साथ 25 प्रतिशत जुर्माना राशि का भुगतान करते हैं, तो उन्हें 75 प्रतिशत जुर्माना राशि की छूट मिलेगी. 75 फीसदी की छूट सिर्फ 31 जनवरी तक ही मिलेगी, जिसके बाद इसमें कोई बढ़ोतरी नहीं होगी. इसलिए नागरिक इस योजना का लाभ उठाए. संपत्ति कर का भुगतान कर जब्ती की कार्यवाही से बचे यह अपील भी निगमायुक्त ने की.

    जोन वार बकाया प्रापर्टी टैक्स 

    जोन बकाया वसूली  

    1 6 करोड़ 43 लाख 

    2 7 करोड़ 55 लाख

    3 8 करोड़ 10 लाख

    4 4 करोड़ 55 लाख

    5 2 करोड़ 55 लाख