Ambadas Danve, demand, relief fund, farmers, Maharashtra

Loading

छत्रपति संभाजीनगर: राज्य में बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि से किसानों (Farmers) को काफी नुकसान हुआ है। इस गंभीर स्थिति में मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री को कोई चिंता नहीं है। महाराष्ट्र में इतनी गंभीर स्थिति निर्माण होने के बावजूद वे प्रचार के लिए अन्य राज्य पहुंचे। किसानों के नुकसान की राज्य के सीएम व डिप्टी सीएम को कोई चिंता नहीं है। इस तरह का आरोप राज्य के विरोधी पक्ष नेता अंबादास दानवे (Ambadas Danve) ने लगाया। 
पिछले तीन दिन से मराठवाडा सहित आस-पास के क्षेत्र में हुई बेमौसम बारिश से बड़े पैमाने पर फसलों का नुकसान हुआ। बुलढाणा, जालना व संभाजीनगर इन जिलों में बेमौसम बारिश से हुए नुकसान का जायजा लेने के बाद विरोधी पक्ष नेता दानवे ने बुधवार की दोपहर विभागीय आयुक्त मधुकर आर्दड से मुलाकात की। उसके बाद विभागीय आयुक्त कार्यालय परिसर में आयोजित प्रेस वार्ता में उन्होंने राज्य सरकार पर कई आरोप लगाए। 
 
 
इससे पूर्व शिवसेना नेताओं ने विभागीय आयुक्त से मुलाकात कर किसानों को तत्काल राहत देने की मांग की। इस में मराठवाड़ा में सभी फसलों का व्यापक पंचनामा और जहां ओलावृष्टि हुई वहां तत्काल मुआवजा दिए जाने की मांग है। शेडनेट से हुए नुकसान की गणना कर मुआवजे में शामिल किया जाए। बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि से हुए नुकसान की ऑनलाइन सूचना देने के दौरान वेबसाइट हैंग होने की कई शिकायतें मिल रही हैं। इसलिए दानवे ने नुकसान की सूचना का आवेदन ऑफलाइन लेने की मांग की है। ऑनलाइन अधिसूचना लेने की अवधि बढ़ाने के बारे में निर्देश बीमा कंपनियों को देने की मांग की है। फसल बीमा कंपनियों को गैर जिम्मेदाराना नीति के बारे में सख्त चेतावनी दी जाए, नहीं तो शिवसेना स्टाइल में उन्हें समझाया जाएगा। 
 
दिवाली के अवसर पर घोषणा
दिवाली के शुभ अवसर पर कृषि मंत्री ने घोषणा की कि यह त्योहार राज्य के सभी किसानों के लिए मधुर होगा। लेकिन किसानों की दिवाली अभी तक मधुर नहीं रही है। फसल बीमा अभी तक नहीं मिला है। इसके बावजूद राज्य के केवल 40 तालुका को सूखा प्रभावित घोषित किया गया है। इस मौके पर अंबादास दानवे ने राज्य सरकार से पूरे राज्य में सूखा घोषित करने और जरूरतमंद किसानों को तत्काल आर्थिक सहायता देने की मांग की। 

क्षतिग्रस्त किसानों की समस्या अधिवेशन में उठायेंगे
विपक्ष के नेता अंबादास दानवे ने आज बुलढाणा, जालना और संभाजीनगर जिलों के क्षतिग्रस्त क्षेत्रों का निरीक्षण किया। इनमें बुलढाणा के पलसखेड़ा, तुलजापुर, जालना के राजेवाड़ी और संभाजीनगर जिले के लाडगांव शामिल हैं। इस अवसर पर उन्होंने बेमौसम बारिश के कारण हुए नुकसान का निरीक्षण किया और किसानों से बातचीत की। इस मौके पर उन्होंने बाग को हुए नुकसान की जानकारी लेने के बाद आगामी सत्र में इस मुद्दे को उठाने का आश्वासन दिया।