Representational Pic
Representational Pic

  • पैसेवारी में गिरावट की संभावना

लाखांदुर (सं). इस वर्ष के खरीफ में तहसील में लगभग 3 बार बाढ़, तुड़तुड़ा कीट बीमारी का बड़े पैमाने पर प्रकोप व वापसी की बारिश से फसलों को हुए नुकसान के कारण इस वर्ष तहसील में औसत प्रति हेक्टेयर 24 क्विंटल धान के उत्पादन में गिरावट होने की जानकारी है.

प्राप्त जानकारी के अनुसार इस वर्ष की खरीफ के मौसम में लाखांदुर तहसील में लगभग 26 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में धान की फसल ली गई थी. लेकिन जुलाई से अगस्त तक इन 2 महीनों में तहसील की चुलबंद व वैनगंगा नदियों में लगभग 3 बार बाढ़ आने से धान की फसलों को भारी नुकसान हुआ. साथ ही वापसी की बारिश ने कटी हुई व खड़ी फसल को भी नुकसान पहुंचाया.

सरकार के पास फसल पंजीकरण को जमा करने एवं नियमों के अनुसार तहसील के 5 कृषि मंडलों के तहत सरकार को रिपोर्ट करने की जानकारी है. इस कटाई व पंजीकरण रिपोर्ट के अनुसार तहसील में 12 फसल कटाई प्रति तहसील में फसल कटाई के तहत कुल 60 कटाई रिपोर्ट सरकार को सौंपी गई है. इस मामले में सरकार ने शीघ्र ध्यान देकर तहसील में धान की फसल में गिरावट की संभावना को देखते हुए आर्थिक संकट में घिरे किसानों को फसल बीमा का लाभ देने के लिए तहसील को अकाल घोषित करने की मांग की जा रही है.