tadoba

    • ताडोबा प्रबंधन ने अधिकृत वेबसाईट पर बुकिंग की दी सलाह

    चंद्रपुर: पट्टेदार बाघों के लिए प्रसिध्द ताड़ोबा अंधारी व्याघ्र प्रकल्प में बाघों के दर्शन के लिए ना केवल जंगल में सावधानी बरतने की आवश्यकता है बल्कि सफारी के लिए बुकिंग करते हुए भी गलत वेबसाईट पर यदि चले गए तो बैंक अकाऊंट से राशि गायब होने की भी संभावना है.

    इन दिनों ताड़ोबा में सफारी के लिए बुकिंग के नाम पर दर्जनों वेबसाईट उपलब्ध है. जिसके झांसे में आकर पर्यटक धोखाधडी के शिकार हो रहे है ऐसा एक मामला हाल ही में सामने आया है जिसमें एक पर्यटक के साथ धोखाधडी हुई है. उस पर्यटक के साथ ताड़ोबा प्रबंधन ने भी फर्जी वेबसाईटों के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज करायी है.  ताड़ोबा प्रबंधन ने सभी लोगों को आगाह करते हुए सलाह दी है कि वे ताड़ोबा-अंधारी बाघ परियोजना के अधिकृत वेबसाईट पर ही बुकिंग करे. अन्यथा जालसाजी का शिकार हो सकते है.

    मामला इस तरह से है कि एक पर्यटक ने ताड़ोबा सफारी के लिए ऑनलाईन बुकिंग की थी. अपने बैंक अकाऊंट से बुकिंग शुल्क भी अदा किया. परंतु पर्यटक को किसी भी तरह का ऑनलाईन मैसेज नहीं आया. किसी अज्ञात व्यक्ति का उसे फोन आाय कि जिस प्रवेशद्वार से उन्होने बुकिंग की है वह फूल है इसलिए उनकी बुकिंग रद्द कर दी गई है. बुकिंग रद्द होने के बाद पर्यटक को अपने पैसे वापस मिलने की उम्मीद थी परंतु उसके खाते में पैसे रिटर्न नहीं आये.

    संबंधित व्यक्ति ने यह बात जब ताड़ोबा प्रबंधन के ध्यान में लायी तो प्रबंधन ने मामले की गंभीरता को देखते हुए  दुर्गापुर और रामनगर पुलिस थाने में फर्जी वेबसाईटों का पता लगाकर उनके खिलाफ कडी कार्रवाई की शिकायत दर्ज करायीहै. साथ ही ताड़ोबा प्रबंधन ने सभी से अनुरोध किया है कि वे अधिकृत वेबसाईट का इस्तेमाल करे. अन्य वेबसाईट क झांसे में ना आये.

    ऑनलाईन बुकिंग के कारण ठगे जाने का यह मामला नया नहीं इससे पूर्व कई बार ऐसे मामले हो चुके है. पिछले साल भी ताड़ोबा प्रबंधन ने 16 नवंबर 2021 को दुर्गापुर पुलिस थाने में इसी तरह की धोखाधडी की रिपोर्ट दर्ज करायी थी. प्रबंधन का कहना है कि सफारी के लिए बुकिंग की माय ताडोबा ओआरजी यह एकमात्र अधिकृत स्वतंत्र वेबसाईट है इसके अलावा उसकी कोई अन्य वेबसाईट नहीं है. परंतु पता चला है कि इस वेबसाईट से मिलती जुलती एक दर्जन वेबसाईट गूगल के प्लेटफार्म पर उपलब्ध है. जिसे अब ब्लॉक करने की मांग उठ रही है.