महावितरण की बिजली कटौती किसानों के लिए घातक, कृषि पंपों के बिजली न काटे

    चंद्रपुर: विधानसभा के शीतकालीन अधिवेशन में राज्य सरकार ने किसानों के कृषिपंपों के बिजली कनेक्शन न काटने का आश्वासन उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने विस सभागृह में दिए थे। किंतु महावितरण राज्य सरकार के आश्वासन को पूरा नहीं कर रही है। चंद्रपुर जिले के गोंडपिपरी तहसील के वढोली सहित अनेक गांव में किसानों के कृषि पंपों के एक तो किसी के दो फेज काटना महावितरण ने शुरु किया है। इसलिए कृषिपंपों के फेज जोडने के आदेश देने की मांग शिवसेना तहसील प्रमुख सूरज माडूरवार ने की है।

    शिवसेना ने तहसीलदार और महावितरण के अधिकारी कातकर को दिए निवेदन में कहा कि राज्य में नैसर्गिक आपदा की वजह से किसान पहले परेशानी में फंसा है। रबी सीजन शुरु है और खेतों में चना, मिरची, गेहूं को सिंचाई की आवश्यकता है। ऐसे में कुछ किसानों का सिंगल तो किसी के दो फेज काट दिया गया है। दो वर्षो से कोरोना से किसान जूझ रहे है।

    इसके बाजवूद खरीफ के सीजन में लौटते मानसून, बेमौसम बरसात और ओलावृष्टि की वजह से पहले ही किसानों के फसलों की पैदावार कम हुई है। अब किसानों को रबी के सीजन से उम्मीद है किंतु बिजली विभाग द्वारा शुरु की गई कृषिपंपों के कनेक्शन कटौती से किसानां पर संकट आ सकता है। इसलिए इसे रोकने का आदेश देने की मांग शिवसेना ने की है।