हड़ताल के कारण विवि प्रशासन का कामकाज ठप्प, गोंडवाना विवि कर्मचारियों ने शुरू किया कामबंद आंदोलन

    गड़चिरोली. आश्वासित प्रगती योजना कारद्द किया सरकारी परिपत्रक पुनर्जीवीत करे, सांतवे वेतन आयोग के 58 माह के फासले की राशी देय करे, 10-20-30 लाभों की आश्वासित प्रगती योजना सरकार लागू करे, 5 दिन का सप्ताह लागू करे, विवि के कर्मियों को एकस्तर पदोन्नती का लाभ दे आदि समेत अन्य प्रलंबित मांगों को लेकर राज्य के महाविद्यालयीन व विविस्तरीय कर्मचारियों ने राज्यव्यापी आंदोलन शुरू किया है.

    जिसके तहत आज 18 दिसंबर से गोंडवाना विवि प्रशासकीय अधिकारी व कर्मचारियों ने बेमियादी कामबंद आंदोलन शुरू किया है. कर्मचारियों के इस आंदोलन के कारण विवि का कामकाज पूर्ण रूप से ठप्प हुआ है.

    सरकारी स्तर पर प्रलंबित होनेवाले कर्मचारियों के समस्याओं संदर्भ में संबंधित खाते के मंत्रीयों को व अधिकारियों को सेवक संयुक्त कृति समिति की ओर से एक माह पूर्व ज्ञापन ज्ञापन सौंपकर कर्मचारी आंदोलन की भूमिका अपनाऐंगे, ऐसी पूर्वसूचना दी थी. किंतू इस ओर सरकार ने अनदेखी करने से विवि कर्मचारियों ने आज 18 दिसंबर से बेमियादी कामबंद आंदोलन की भूमिका अपनाई है.

    महाराष्ट्र महाविद्यालयीन व विश्वविद्यालयीन सेवक संयुक्त कृति समिति के नेतृत्व में गोंडवाना विवि के कर्मचारियों ने 16 नवंबर से आंदोलन शुरू किया है. इसी के तहत काले फित लगाकर आंदेालन, एकदिवसी लाक्षणिक हडताल तो 13 व 14 दिसंबर को विभागीय सहसंचालक कार्यालय में संगठना के पदाधिकारियों ने श्रृंखलाबद्ध अनशन किया.

    वहीं आज से बेमियादी कामबंद आंदोलन शुरू किया गया. उक्त बेमियादी आंदोलन में विवि के कार्यरत गोंडवाना विवि कर्मचारी संगठना तथा गोंडवाना विवि अधिकारी व कर्मचारी संगठना इन दोनों संगठना के सभी अधिकारी व कर्मी हड़ताल में सहभागी होने से विवि के प्रशासकीय कामकाज का प्रभावित नजर आया. 

    मंत्री के आह्वान को अनसुना 

    2 दिन में कर्मचारी कामबंद आंदोलन में उतर रहे थे. ऐसे में उच्च व तकनिकी शिक्षा मंत्री ने 2 कृति समितियों के पदाधिकारियों से चर्चा कर सरकारी कर्मचारियों के मांगों के संदर्भ में गंभीर होकर होकर जल्द ही मांगों की पूर्ति करेंगे, आंदोलन पिछे लेने का आह्वान किया था.

    बिते वर्ष भी कृति समिति की ओर से मंत्री के आश्वासन के चलते आश्वासन पिछे लिया गया था. किंतू इसके बाद भी समस्या हल नहीं होने से फिल से मंत्री के आह्वान का शिकार न होते हुए मंत्री के आह्वान को अनसुना करते हुए कर्मचारियों ने कामबंद आंदेालन किया. 

    मांगों की पूर्ति होने तक जारी रहेगा आंदोलन 

    बेमियादी कामबंद आंदोलन के दौरान विवि कर्मचारियों ने विवि परिसर में ‘कर्मचारी एकता जिंदाबाद’, ‘हम सब एक है’, ‘अब कि बार, आर या पार’ ऐसी घोषणाएं दी. सरकारी स्तर पर जबतक मांगे पूर्ण नहीं होती तबतक आंदोलन जारी रखने का संकल्प किया गया है. जिससे उक्त आंदोलन आगे कुछ दिनों तक चलनेवाला है.