बेमौसम बारिश, धान फसलों का नुकसान, किसानों की उम्मीद पर फिरा पानी

    गड़चिरोली. गड़चिरोली जिले के कुछ क्षेत्र के साथ चामोर्शी तहसील में बेमौसम बारिश होने से कटाई किए गए भारी प्रजाती के धान फसलों को व्यापक फटका लगा है. प्रकृति के मार के किसानों की उम्मीदों पर पानी फिरा है. 

    किसानों ने दीपावली के बाद धान कटाई को शुरूआत की है. धान कटाई के कार्य हेतु महिला मजदूर सुबह ही खेत में दाखिल होकर धान कटाई करते दिखाई दे रहे है. उचित समय में धान की कटाई हो इसके लिए किसान मजदूरों से मिन्नते कर रहे है. धान कटाई होने के बाद कमसेकम सप्ताहभर बाद बांधणी कार्य किया जाता है.

    धान कटाई व बांधणी करने के लिए हर गाव में मजदुरों की कमी निर्माण होने से मजदुरों के मजदूरी का दर बढ गया है. अधिक मजदूरी देकर भी मजदूर मिलना कठीण हुआ है. धान उत्पादन पर सालभर का जीवनयापन चलता है. जिससे किसान धान फसल इकठ्ठा करने के लिए बड़ी भागदौड करते नजर आ रहे है. गत वर्ष धान कटाई व बांधणी के दौरान अकाली बारिश हुई थी. जिससे धान कटाई बांधणी कार्य लडखडाया था. तथा अकाली बारिश से बडा नुकसान किसानों को सहन करना पड़ा था.

    तथा इस वर्ष भी 13 नवंबर को दोपहर को आए अकाली बारिश से काफी नुकसान होने की तस्वीर दिख रही है. सभी किसानों ने धान कटाई कार्य को शुरूआत की है. मात्र अचानक 2 दिनों से बदरीला वातावरण तैयार होने से किसानों की धड़कने बढ गयी थी. साथ ही आज जिले के कुछ क्षेत्र समेत चामोर्शी तहसील में बारिश ने हजेरी लगाने से कटाई किए धान फसलों में पानी जमा हुआ है. जिससे किसान धान कडपा बांध से रखते नजर आ रहे है. 

    कपास फसलों पर भी अकाली बारिश का फटका 

    चामोर्शी तहसील में खरिप सीजन में बुआई किए कपास फसलों को निकालना शुरू था. इस दौरान कुछ किसानों ने पहला कपास निकाला. तथा कुछ किसानों ने निकालने के कार्य को शुरूआत की थी. मात्र अकाली बारिश से कपास नष्ट हो चुका है. जिससे कपास उत्पादक किसानों का काफी नुकसान हुआ है. अकाली बारिश गत वर्ष भी आयी थी. जिससे गतवर्ष की पुनरावृत्ती हुई होकर बड़ा नुकसान हुआ है.

    वडधा परिसर में मुसलाधार बारिश की हजेरी 

    आरमोरी तहसील के वडधा परिसर में आज शाम 6 बजे मुसलाधार बारिश हुई. अकाली बारिश से खेत के बांध में पानी जमा होने से इस क्षेत्र के धान फसलों का काफी नुकसान होनेवाला है. इस क्षेत्र में फिलहाल भारी प्रजाति के धान फसलों की बडी पैमाने में कटाई, बांधणी शुरू है. इस बारिश से कटाई किए हुए धान फसलों को बड़ा फटका लगा है. देर तक बारिश की रिमझिम शुरू थी. सरकार ने नुकसान का पंचनामा कर किसानों को मदद दे, ऐसी मांग किसान वर्ग से की जा रही है.