जिले में बाढ़ से 88 लाख का नुकसान, 790.31 हेक्टेयर की फसल प्रभावित

    गोंदिया. जिले में जुलाई माह में बड़े पैमाने पर बारिश हुई. जिससे जिले के नदी नालों में बाढ़ आ गई. इस बाढ़ का पानी खेतों में घुसने से फसलों का बड़े पैमाने पर नुकसान हो गया है. इसका अहवाल जिला कृषि अधिकारी कार्यालय ने तैयार किया है. इसके अनुसार जिले के 2827 किसानों के 790.31 हेक्टेयर क्षेत्र की फसलों का 87 लाख 84 हजार 207 रु. का नुकसान हुआ है. ऐसा अहवाल दिया गया है. जून महीने में बारिश नहीं हुई. जिससे किसान चिंताग्रस्त हो गए थे.

    इस वर्ष बारिश होती है या नहीं ऐसी चर्चा किसानों द्वारा की जा रही थी. मौसम विभाग का अनुमान सही साबित नहीं हुआ था. जिससे किसान चिंताग्रस्त हो गए थे लेकिन जुलाई माह में बारिश ने जोरदार हाजरी लगाई. लगातार बारिश होने से जिले के नदी व नालों में बाढ़ आ गई तथा अधिकांश क्षेत्र  जलमग्न हो गए. इसी दौरान नालों का पानी खेत में घुसा. जिससे खेत में लगाए गए रोपे  बह गए. वहीं कुछ स्थानों पर रोपाई सड़ गई. जिससे किसानों में चिंता का वातावरण है.

    राजस्व विभाग और कृषि विभाग ने जिले के हुए नुकसान के पंचनामें तैयार किए. इसके अनुसार जिले के 2827 किसानों की 790.31 हेक्टेयर क्षेत्र में धान और सब्जी भाजी फसल के 87 लाख 84 हजार 207 रु. का नुकसान हुआ है. इसमें गोंदिया तहसील अंतर्गत 1645 किसानों के 446.62 हेक्टेयर क्षेत्र में 45 लाख 9 हजार 140 रु., गोरेगांव तहसील में 78 किसानों के 40.10 हेक्टेयर में 3 लाख 16 हजार 900 रु., तिरोड़ा के 358 किसानों के 100.62 हेक्टेयर में 13 लाख 58 हजार 370 रु., सालेकसा तहसील के 2 किसानों के 1 हेक्टेयर क्षेत्र में 6 हजार 800 रु., सड़क अर्जुनी तहसील के 45 किसानों के 10.42 हेक्टेयर क्षेत्र की फसल के 1 लाख 40 हजार 670 रु., अर्जुनी मोरगांव में 697 किसानों के 191.39 हेक्टेयर क्षेत्र में 24 लाख 50 हजार 167 रु. व देवरी तहसील के 2 किसानों के 0.16 हेक्टेयर क्षेत्र की फसल के 2160 रु. नुकसान का समावेश है. यह अहवाल कृषि आयुक्तालय पुणे व विभागीय कृषि संचालक नागपुर को भेजा गया है.