hospital
Representational Pic

  • अनाप-शनाप वसूली, 73,000 मरीजों को लौटाए

गोंदिया. जिले में कोविड-19 का प्रभाव सतत बढ़ रहा है. जिससे कोरोना के पीड़ित मरीज उपचार के लिए निजी अस्पतालों में आते हैं. कुछ निजी अस्पतालों के माध्यम से कोरोना उपचार के लिए मरीजों से अनाप-शनाप रकम ली जा रही है. इस संबंध में शिकायत जिलाधीश कार्यालय को मिली है. इसे गंभीरता से लेकर जांच कर 2 निजी अस्पतालों से कुल 3 प्रकरणों में 73,300 की राशि मरीजों के परिवार वालों को लौटाया है.

अतिरिक्त वसूली महंगी पड़ी

निजी अस्पतालों की ओर से उपचार के लिए मरीजों से अतिरिक्त वसूलना महंगा पड़ा है. 3 प्रकरणों के परिवार वालों को वापस लौटाई गई है. कोरोना उपचार के लिए निजी अस्पतालों की नागरिकों से प्राप्त शिकायतों की जांच करने अपर जिलाधीश राजेश खवले को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है. उनके मार्गदर्शन में जिला शल्य चिकित्सक, जिला स्वास्थ्य अधिकारी व मुख्य लेखा व वित्त अधिकारी जिप गोंदिया की समिति गठित की गई है. 

नोडल अधिकारी रखते हैं नजर

निजी अस्पताल में किसी भी शिकायत के लिए मान्यता प्राप्त 6 निजी अस्पतालों में 6 स्वतंत्र नोडल अधिकारियों की टीम नियुक्त की गई है. इसमें नोडल अधिकारी संबंधित अस्पताल पर नियंत्रण रखते हैं. इतना ही नहीं मरीजों की सुविधा, अधिक बिल की शिकायत, समन्वय साधने सहित अन्य शिकायतों का निवारण करने टीम की नियुक्ति की गई है. निजी अस्पताल से अधिक बिल की शिकायत मिलने पर उसका निवारण करने जिला प्रशासन ने तत्काल जांच समिति को निर्देश दिए थे. समिति ने प्रकरण की जांच कर मरीजों के परिवार वालों को लौटा दी है.

मान्यता प्राप्त अस्पताल में उपचार व विभिन्न टेस्ट के लिए शासन की ओर से निश्चित किए दर अस्पताल के नोटिस बोर्ड पर लगाना व संपर्क अधिकारी को जानकारी देना बंधनकारक है. कोरोना उपचार के लिए कई मरीज बाहर जिले से गोंदिया जिले में आते हैं, किंतु उपचार के नाम पर कुछ निजी अस्पताल मरीजों के रिश्तेदारों से मनमर्जी के अनुसार रकम वसूलते हैं. इस तरह निजी अस्पतालों से अधिक राशि वसूल करने पर नोडल अधिकारी या जिलाधीश कार्यालय के नियंत्रण कक्ष में संपर्क क्रमांक 07182-230196 पर शिकायत करें.