thane corona
Representative Image

    क्रियाशील मरीजों की संख्या 996    

    गोंदिया. 19 जनवरी को प्राप्त अहवाल में 156 कोरोना पॉजिटिव मरीज पाए गए. जिले में कोरोना से अब तक कुल 579 मरीजों ने जान गंवाई है. वहीं 174 क्रियाशील व्यक्ति स्वस्थ्य होने पर उन्हें छुट‍्टी दे दी गई है.  शासकीय मेडिकल कॉलेज की प्रयोगशाला से अब तक कुल 42,791 मरीज कोरोना पॉजिटिव पाए गए. वहीं 41,078 मरीजों ने कोरोना पर मात की है.

    जिले में कोरोना क्रियाशील मरीजों की संख्या 996 है. इनमें गोंदिया तहसील के 653, तिरोड़ा तहसील के 41, गोरेगांव तहसील के 40, आमगांव तहसील के 80, सालेकसा तहसील के 49, देवरी तहसील के 8, सड़क अर्जुनी तहसील के 18 व अर्जुनी मोरगांव तहसील के 107 मरीजों का समावेश है. जिले में कोरोना पीडितों के स्वस्थ्य होने का प्रश. 95.98 है, जबकि पीडित मरीजों का मृत्यु प्रश. 1.40 है. वहीं डब्लिंग रेट 11.6 दिन है.

    पॉजिटिविटी रेट में हुआ इजाफा 

    गोंदिया.  कोरोना का संकट गहराया हुआ है. नए साल के आखिरी पखवाड़े में राज्य के  साथ  जिले में भी ‘पॉजिटिविटी’ रेट में इजाफा हुआ है. नियमों का पालन नहीं होने के कारण  दिन-ब-दिन मरीजों की संख्या बढ़ रही है. इसके लिए नागरिकों को नियमों का पालन करना चाहिए.  कोरोना जैसे लक्षण पाए जाने पर तत्काल जांच करना यह संक्रमण रोकने पर उपाय है.  स्वास्थ्य विभाग ने नागरिकों से   अपील की है कि दोनों टीकाकरण की खुराक निर्धारित अंतराल पर जल्द से जल्द पूरी करें. 

    पिछले कुछ दिनों में, क्रिसमस की छुट्टियों, पर्यटन स्थलों पर भीड़, नए साल की पार्टियों और शादी समारोहों सहित राजनीतिक और सार्वजनिक कार्यक्रमों में बड़े पैमाने पर भीड़ हुई.  लॉकडाउन में ढील दिए जाने के बाद प्रशासन से बार-बार नियमों का पालन करने की अपील की जा रही है. बावजूद इसके यात्रा के लिए ट्रेन स्टेशन, निजी वाहनों में नियमों से अधिक भीड़, हॉटेल रेस्तरां में पार्टी व भाजन के लिए भीड़ होने लगी इसमें कोरोना नियमों को रौंदा गया. जिससे अब  पीड़ितों की संख्या बढ़ती जा रही है. 

    संक्रमण  रोकने के लिए टीकाकरण, भीड़ टालने व  नियमों का पालन करने से ही संक्रमण को रोका जा सकता है.  जिले में बाहर से आने वालों का प्रमाण भी बढ़ने से   प्रशासन का  सिरदर्दी बढ़ गया है.  सार्वजनिक स्थानों पर नियमों का पालन नही करने की तस्वीर सामने आ रही है. 

    क्या है पॉजिटिविटी दर 

    सामान्य तौर पर पॉजिटिविटी दर वो आंकड़ा है, जिससे यह पता चलता है कि किए जा रहे कुल टेस्ट में से कितने पॉजिटिव आ रहे हैं. पॉजिटिविटी दर का कम होना अच्छा संकेत माना जाता है. वहीं पॉजिटिविटी दर का ज्यादा होना यह बताता है कि संक्रमण तेजी से फैल रहा है. 

    सर्दी, बुखार, खांसी, बदन  व सिर दर्द या अन्य कोई लक्षण होने पर कोरोना जांच व उपचार की अपील की जा रही है. टीके की दो खुराकें पूरी कर ली हों तो ही बाहर सार्वजनिक रूप से अत्यावश्यक कार्य के लिए जाएं. संक्रमण को रोकने के लिए नियमों का पालन  व टीकाकरण  महत्वपूर्ण है. 

     -डा. नितिन कापसे, 

    जिला स्वास्थ्य अधिकारी जिला परिषद गोंदिया

    कोरोना का प्रकोप जारी है इसलिए  मास्क, सैनिटाइज़र या साबुन से बार-बार हाथ धोना, सुरक्षित दूरी व भीड़ से बचने की आवश्यकता है.  नागरिकों को नियमों का पालन करना चाहिए. सभी ने मिलकर कोरोना को दूर रखने के लिए कोशिश करनी चाहिए. 

     -डा दिनेश सुतार, 

     अतिरिक्त जिला स्वास्थ्य अधिकारी, जिला परिषद, गोंदिया

    जिले के 75 प्रश. कोरोना मरीज गोंदिया व आमगांव में

    कोरोना की तीसरी लहर में गोंदिया जिले में संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ रही है. इसमें गोंदिया व आमगांव तहसील हॉटस्पॉट साबित हुए. गोंदिया में 653 और आमगांव में 80 संक्रमित मिले है. कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए प्रशासन के लाख प्रयासों के बावजूद संक्रमण की रफ्तार थमने का नाम नहीं ले रही है.

    वर्तमान में जिले में अब तक कुल 996 कोरोना एक्टिव मरीज है. जिनमें से 733 मरीज केवल गोंदिया व आमगांव तहसील के ही है. जिले के अन्य तहसीलों की बात की जाए तो, तिरोड़ा में 41, गोरेगांव में 40, सालेकसा में 49, देवरी में 8. सड़क अर्जुनी में 18 व अर्जुनी मोरगांव में 107 एक्टिव मरीज है.

    उल्लेखनीय है कि पिछली लहर के दौरान की तुलना में इस वर्ष कोरोना से मृत्यु के मामले काफी कम है और मरीज भी तेजी से उपचार के बाद स्वस्थ हो रहे हैं. इससे जिला प्रशासन थोड़ी राहत महसूस कर रहे हैं. जिलाधीश नयन गुंडे द्वारा जिले में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए राज्य सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुसार अनेक प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किए गए हैं. लेकिन लोग इसको गंभीरता से नहीं लेकर खुलेआम कोरोना प्रोटोकॉल का उल्लंघन कर रहे हैं.

    पुलिस प्रशासन द्वारा कोरोना नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ निरंतर दंडात्मक कार्रवाई की जा रही है. उल्लेखनीय है कि गोंदिया जिला मुख्यालय में प्रतिदिन हजारों की तादाद में लोग जिले के दूसरे क्षेत्रों अथवा राज्यों से आते हैं और बाजार आदि में भी न तो दुकानदार और न ही ग्राहक कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते दिखते हैं. जिसके कारण संक्रमण की रफ्तार सबसे अधिक है. प्रशासन की ओर से नागरिकों को कोरोना नियमों का पालन करने संबंधी बारबार आह्वान किया जा रहा है.

    मौसम में बदलाव से बढ़े सर्दी, खांसी के मरीज

    मौसम के बदलाव के चलते जिले में कभी बारिश, कभी धूप तो कभी अचानक ठंड बढ़ने की वजह से नागरिकों के स्वास्थ्य पर इसका विपरित परिणाम हो रहा है. इन दिनों जिले के सरकारी व निजी अस्पतालों में सर्दी, खांसी, वायरल बुखार के मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है. दो दिनों पूर्व जिले के आसमान में बादल मंडरा रहे थे. लेकिन अब आसमान पूरी तरह से साफ हो चुका है.

    जिससे दिन में धूप रहती है, तो रात्रि में ठंड महसूस की जा रही है. विगत दिनों मौसम विभाग ने जिले में येलो अलर्ट जारी किया था, जिससे जिले भर में 9 से 15 जनवरी तक बेमौसम बारिश का सिलसिला चलता रहा, जिससे मौसम में ठंड बढ़ गई है. जिसका असर लोगों के स्वास्थ्य पर पड़ रहा है.