एमएचटी-सीईटी परीक्षा में तकनीकी गड़बड़ी, छात्रों को दिया जाए एक और मौका

    धुलिया. शहर(City) सहित जिले (District) के विभिन्न परीक्षा केंद्रों (Exam Centers) पर इंजीनियरिंग प्रवेश (Engineering Entrance) के लिए एमएचटी-सीईटी परीक्षा 20 सितंबर को हुई थी। कुछ केंद्रों पर कंप्यूटर तकनीकी खराबी (Computer Technical Fault) के कारण कई छात्र परीक्षा से वंचित हो गए।

    विधायक कुणाल पाटिल (MLA Kunal Patil) ने उच्च तकनीकी शिक्षा मंत्री उदय सामंत से ऐसे छात्रों को दोबारा परीक्षा में बैठने का मौका देने को कहा है। उच्च तकनीकी शिक्षा मंत्री उदय सामंत को विधायक कुणाल पाटिल ने तुरंत अपने पत्र के माध्यम से ई-मेल भेजकर तकनीकी समस्या की जानकारी दी। कुणाल पाटिल ने कहा है कि, 20 सितंबर को एमएचटी-सीईटी परीक्षा के लिए छात्रों ने दिन रात मेहनत की। यह परीक्षा वर्ष में केवल एक बार आयोजित की जाती है, इसलिए छात्रों का शैक्षणिक भविष्य इस परीक्षा पर निर्भर करता है। 20 सितंबर को छात्रों ने परीक्षा केंद्रों पर कंप्यूटर पर ऑनलाइन पेपर देना शुरू किया। लेकिन शुरू से ही कई छात्रों को कंप्यूटर तकनीकी दिक्कतों का सामना करना पड़ा।

    छात्रों को पुन: परीक्षा का अवसर दिया

    कंप्यूटर पर ऑनलाइन परीक्षा देते समय छात्रों को एक विषय के प्रश्न देखते थे लेकिन अन्य विषयों के नहीं। नतीजतन, वे प्रश्नों को पूरी तरह से हल नहीं कर सके, साथ ही तकनीकी समस्याएं जैसे पूर्ण स्क्रीन ब्रेकडाउन, कंप्यूटर पर पूर्ण निर्देश न देखना जैसे समस्याऐं भी आती रहीं। इसलिए उन्होंने परीक्षा केंद्र पर निरीक्षकों को समस्याओं के बारे में बताया लेकिन निरीक्षक उन्हें हल नहीं कर पाए। इसके बाद छात्र उसी समय जिला कलेक्टर के पास पहुंचे और लिखित शिकायत की। इसलिए विधायक कुणाल पाटिल ने मांग की है कि मंत्री सामंत को परीक्षा देते समय कंप्यूटर की तकनीकी समस्या के कारण परीक्षा से वंचित छात्रों को पुन: परीक्षा का अवसर दिया जाना चाहिए।