Samridhi Expressway

    मुंबई: देश की आर्थिक राजधानी और राज्य की उपराजधानी को जोड़ने वाले मुंबई-नागपुर  समृद्धि एक्सप्रेस-वे (Mumbai-Nagpur Samridhi Expressway) पर देश की सबसे चौड़ी और राज्य की सबसे लंबी सुरंग (Tunnel ) लगभग बन कर तैयार हो गई है। देश के पहले मुंबई-नागपुर ग्रीन एक्सप्रेस फील्ड-वे पर ऍफ़कॉन कंपनी के माध्यम से नासिक और ठाणे जिले की सीमा पर इगतपुरी (Igatpuri) के पास वाशाला में सुरंग का काम अपने अंतिम चरण में है।

    एमएसआरडीसी के अधिकारियों के अनुसार, ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस-वे के रास्ते में बनने वाली 6 सुरंगों में से यह सुरंग सबसे लंबी और चौड़ी है। यह दोहरी सुरंग बाएं ओर 7.78 किमी और दाईं ओर 7.74 किमी लंबी और 35 मीटर चौड़ी है। वाहन  चालकों को कसारा घाट पार करने में इस समय 20 से 25 मिनट लगते हैं, जबकि इस सुरंग से मात्र 5 से 6 मिनट में घाट पार हो सकेंगे। ट्विन टनल के अंदर कंक्रीट रोड का निर्माण कार्य पूरा हो चुका है। बिजली के काम जैसे लाइट लगाने, पंखे और सिविल वर्क हो रहा है। ऍफ़कॉन के प्रोजेक्ट मैनेजर शेखर दास के अनुसार, टनेल का लगभग 90 प्रतिशत काम हो गया है। इसे 2 साल के रिकॉर्ड समय में बनाया गया है।

    न्यू ऑस्ट्रेलियन टनलिंग मेथड

    समृद्धि कॉरिडोर के पैकेज-14 की इस जुड़वां सुरंग को 100 साल की आयु के साथ 120 किमी प्रति घंटे से अधिक की वाहनों की गति सीमा के लिए डिजाइन किया गया है। ‘न्यू ऑस्ट्रेलियन टनलिंग मेथड’ का इस्तेमाल कर बनाया गया है। सुरंगें आधुनिक वेंटिलेशन, अग्निशमन और सुरक्षा प्रणालियों से सुसज्जित हैं।

    पहले चरण के खुलने का इंतजार

    मुख्यमंत्री कार्यालय में (वॉर रूम, इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट्स) के महानिदेशक राधेश्याम मोपलवार के अनुसार, नागपुर से शिर्डी तक 480 किमी का काम पूरा हो चुका है। राज्य सरकार पीएम मोदी के हाथों इसके उद्घाटन का इंतजार कर रही है। हाल ही में डीसीएम देवेंद्र फडणवीस ने दिसंबर में समृद्धि के लोकार्पण की जानकारी दी है।

    एक्सप्रेस-वे पर सुविधा तैयार

    एमडी मोपलवार के अनुसार समृद्धि एक्सप्रेस-वे के पहले चरण में एम्बुलेंस सेवाएं, टोल संग्रह प्रणाली, पेट्रोल पंप आदि सुविधाएं तैयार हैं। वाहनधारकों से 1.72 रुपए प्रति किलोमीटर की दर से टोल वसूला जाएगा।

    2023 में मुंबई तक समृद्धि एक्सप्रेस-वे 

    701 किमी के समृद्धि एक्सप्रेस-वे को मुंबई तक दिसंबर 2023 में खोलने का लक्ष्य है। शिर्डी से इगतपुरी और ठाणे तक का कार्य तेजी से चल रहा है। लगभग 55,000 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाला समृद्धि हाईवे राज्य के 10 जिलों, 26 तालुकों और 392 गांवों से होकर गुजरेगा। इस परियोजना के पूरा होने के बाद नागपुर से मुंबई का सफर महज 8-9 घंटे में पूरा किया जा सकेगा।