‘स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र’ के भविष्य से अवगत कराएंगे डॉ परवेज ग्रांट

मुंबई. वर्तमान में देश कोरोना वैश्विक महामारी से लड़ रहा है। इस महामारी से अब तक हजारों लोगों ने अपनी जान गवाई है। लेकिन कई लोग इस बीमारी से ठीक होकर अपने घर पहुंचे है। कोरोना के संकट में हर कोई अपने घरों बंद है लेकिन इस खतरनाक वायरस के बिच कोरोना वारियर्स बनकर स्वास्थ्य विभाग दिन-रात मरीजों की सेवा में जुटा हुआ है। इस बिच कई डॉक्टर्स, नर्स, स्वास्थ्य कर्मचारी कोरोना संक्रमित हुए। कई लोगों ने सेवा देते हुए अपनी जान गवाई है। इसलिए कोविड-19 के बाद ‘स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र’ का भविष्य कैसा रहेगा?  इस पर गहन चर्चा करने के लिए ‘डॉ परवेज ग्रांट’ 15 मई 2020 को नवभारत-नवराष्ट्र के ‘लॉकडाउन वाइब्स वेबिनार सीरीज’ में नवभारत के फेसबुक पेज ( https://www.facebook.com/enavabharat/ ) के माध्यम से जनता को संबोधित करेंगे।

डॉ परवेज ग्रांट एक कार्डियोलॉजिस्ट है। कहा जाता है कि, एक डॉक्टर में ज्ञान, अनुभव और निसंदेह कौशल यह गुण होने चाहिए। और यह गुण शायद ही किसी डॉक्टर में पाए जाते है। लेकिन यह सभी गुण डॉ परवेज ग्रंत में है। यही कारण है की डॉ ग्रांट  ऐसी दुर्लभ नस्ल से ताल्लुक रखते है। डॉ ग्रंत  ने 30 साल से पुणे के रूबी हॉल क्लिनिक में चीफ कार्डियोलॉजिस्ट और कार्डियोवस्कुलर सर्विसेज के चेयरमैन का कार्यभार संभाला, अब वे सबसे अनुभवी विशेषज्ञों में से एक हैं। साथ ही उनके नेतृत्व में रूबी हॉल कार्डिएक सेंटर भारत में हृदय सेवा प्रदान करने वाला प्रमुख संस्थान बनकर उभरा है।

डॉ परवेज ग्रांट को दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित संस्थानों से फेलोशिप मिली है। जिसमे अमेरिकन कॉलेज ऑफ कार्डियोलॉजी और रॉयल सोसाइटी ऑफ मेडिसिन, यूके, सहित अन्य दुनिया के कुछ सबसे प्रतिष्ठित प्रतिष्ठान शामिल है। लेकिन वे इस अपनी बड़ी उपलब्धि नहीं मानते। डॉ ग्रंत समाज के सभी तबकों में गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवा  प्रदान कर रहे है और इसे वे सबसे बड़ी उपलब्धि मानते है। इसलिए रूबी हॉल क्लिनिक ने अब तक कई हृदय शल्यचिकित्सा नि: शुल्क की है। 

डॉ ग्रांट ने स्वयं महाराष्ट्र के दूर-दराज क्षेत्रों में 8000 से अधिक निःशुल्क क्लिनिक संचालित किए है। वर्ष 2015 में ग्रांट मेडिकल फॉउंडेशन ने वंचित लोगों के मुफ्त इलाज पर 12 करोड़ रूपये खर्च किये। इसलिए डॉग्रंत को चिकित्सा क्षेत्र में उनकी सेवाओं के लिए 3 राष्ट्रिय पुरस्कार (राष्ट्रिय सम्मान पुरस्कार, मणिभाई देसाई राष्ट्रसेवा पुरस्कार और लायंस युवा सेवा रत्न पुरस्कार) समेत कई पुरस्कार मिले है।