eknath shinde and devendra fadnavis
Pic: Social Media

    मुंबई: महाराष्ट्र (Maharashtra ) में शिंदे-फडणवीस सरकार (Shinde-Fadnavis Government) के अंदर खटपट रोकने के लिए कवायद तेज हो गई है । सीएम एकनाथ शिंदे ( CM Eknath Shinde) के साथ डिप्टी सीएम देवेन्द्र फडणवीस (Deputy CM Devendra Fadnavis) ने नाराज विधायकों को मनाने के लिए अब मंत्रिमंडल विस्तार (Cabinet Expansion) के संकेत दिए हैं। मंगलवार को गडचिरोली दौरे पर पत्रकारों से बात करते हुए शिंदे ने कहा कि सही समय आने पर मंत्रिमंडल विस्तार के काम को पूरा किया जाएगा। 

    उन्होंने यह भी कहा कि इस विस्तार में उन विधायकों को मौका मिलेगा, जिन्हें पहले मंत्रिमंडल विस्तार में जगह नहीं मिल पाई थी। हालांकि अभी मंत्रिमंडल विस्तार के डेडलाइन को लेकर कोई खुलासा नहीं किया  गया है।  

    राज्य मंत्रियों की नियुक्ति जरूरी 

    मुंबई में पत्रकारों से अनौपचारिक बात करते हुए डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि अगर जल्द ही राज्य मंत्रियों की नियुक्ति नहीं की गई तो सरकार के काम को चलाने में दिक्कत आएगी। ऐसे में कैबिनेट के को भार को कम करने के लिए राज्य मंत्रियों को नियुक्त करना जरूरी है। उन्होंने कहा कि मंत्रिमंडल विस्तार का अंतिम फैसला सीएम एकनाथ शिंदे के साथ चर्चा करने के बाद लिया जाएगा।  

    शिंदे गुट के 22 विधायकों के बीजेपी में जाने में चर्चा

    मंत्रिमंडल विस्तार की यह चर्चा ऐसे समय में जोर पकड़ रही है, जब हाल ही में ठाकरे गुट ने दावा किया था कि शिंदे गुट के 22 विधायक नाराज हैं और वे बीजेपी में शामिल  हो सकते हैं। हालांकि डिप्टी सीएम देवेन्द्र फडणवीस ने इन खबरों को खारिज किया है। उन्होंने कहा कि इस तरह के दावों में कोई दम नहीं है।   

    बच्चू कडू समेत कई नाराज

    शिंदे-फडणवीस सरकार में मंत्री न बनाए जाने से प्रहार संगठन के नेता बच्चू कडू समेत कई कई विधायकों के नाराज होने की खबर है। इन विधायकों में संजय शिरसाट, प्रताप सरनाईक के अलावा अमरावती से निर्दलीय विधायक रवि राणा भी शामिल हैं। महाविकास आघाडी सरकार में कडू स्कूली शिक्षा के राज्य मंत्री थे। उन्हें उम्मीद थी कि नई सरकार में उन्हें प्रमोट कर कैबिनेट मंत्री बनाया जाएगा, लेकिन उन्हें निराशा हाथ लगी। हालांकि अब मंत्रिमंडल विस्तार के संकेत के बाद उम्मीद जगी है कि कडू समेत कुछ अन्य विधायकों को मंत्री बनाया जा सकता है। 

    40 दिनों बाद हुआ था कैबिनेट विस्तार

    इससे पहले अगस्त महीने में 40 दिनों के लंबे इंतजार के बाद महाराष्ट्र में नई सरकार का कैबिनेट विस्तार हुआ था। इसमें 18 कैबिनेट मंत्रियों ने शपथ ली थी। दरअसल राज्य के सत्ता संघर्ष को लेकर सुप्रीम कोर्ट में चल रही सुनवाई की वजह से कैबिनेट विस्तार को लेकर शिंदे-फडणवीस सरकार काफी सावधानी बरत रही थी। हालांकि अब यह मामला संविधान पीठ के पास चला गया है। ऐसे में दूसरे कैबिनेट विस्तार की संभावना तेज हो गई है। 

    शीतकालीन सत्र से पहले मंत्रिमंडल विस्तार

    ऐसी चर्चा है कि नागपुर में 19 दिसंबर से शुरू होने वाले शीतकालीन सत्र से पहले शिंदे-फडणवीस सरकार का कैबिनेट विस्तार हो सकता है। इसमें शिंदे गुट से 3 और भाजपा से 3 विधायकों को मंत्री बनाया जा सकता है। वहीं काफी समय से लंबित महामंडल के बंटवारे के लिए  6 सदस्यों की कमेटी बनाई गई है।