fastag toll tax

  • माथनी टोल नाके पर लग रही है कतारें

मौदा. तहसील के माथनी टोल नाके पर चारपहिया व भारी वाहनों के लिए फास्ट टैग प्रणाली अनिवार्य करने से अब यह सिस्टम वाहन चानकों के लिए सिरदर्द बन गया है. टोल नाके पर वाहनों की लंबी कतारें लगने से यहां पर परेशानी और भी बढ़ती जा रही है. ऐसे में टोल नाका प्रशासन ने फास्ट टैग रजिस्ट्रेशन के लिए उचित और सरल व्यवस्थाए करने की मांग त्रस्त वाहन धारकों ने की है.

माथनी टोल नाके को एनएचआई द्वारा वैनगंगा एक्सप्रेस वे प्राइवेट लिमिटेड को टोल वसूली का ठेका दिया गया है. भंडारा से नागपुर हाईवे की सड़क के रखरखाव का जिम्मा भी डब्ल्यूईपीएल कंपनी को सौंपा गया है. लेकीन कंपनी द्वारा न तो सड़क की गुणवत्ता पर ध्यान दिया जा रहा है और न ही टोल प्लाजा पर वाहन चालकों के लिये कोई उचित व्यवस्थाएं की गई, सीर्फ टोल वसूली जारी है.

एक ही लेन से जाते है सभी वाहन

इन टोल प्लाजा लेन पर विशेष फास्ट टैग रजिस्ट्रे्शन वाहन धारकों को जाने के लिये लेन तो निश्चित की है, लेकिन उसी लेन से नॉन फास्ट टैग रजिस्ट्रेशन वाले वाहन भी घुस जाते है़ जिससे उनकी एंट्री लेते-लेते फास्ट टैग वाहन चालकों को घंटों तक इंतजार करना पड़ता है.ऐसे में इन वाहन चालकों को पैसा भी ज्यादा देने पड़ रहे और समय भी बर्बादी भी हो रही है. इसलिए टोल प्रशासन ने फास्ट टैग रजिस्टर्ड वाहन धारकों के लिए अलग व्यवस्था करने के साथ ही  नॉन फास्ट टैग वाहन धारकों के लिए अलग लेन की व्यवस्थाएं करनी चिाहए ताकि दोनों तरह के वाहन चालकों को परेशान न हो. 

कर्मचारियों की कमी

इस बारे में टोल प्लाजा प्रशासन के मैनेजर ने बताया कि टोल प्लाजा प्रशासन ने फास्ट टैग पंजीकृत वाहन धारकों को परेशानी न हो इसलिए कर्मचारियों की नियुक्ति की थी, लेकन कोवीड 19 के चलते इन सभी कर्मचारियों को बंद कर दिया गया है. जैसे राष्ट्रीय महामार्ग प्राधिकरण का आदेश आएगा वैसे ही इन कमचिारियों की पुन: नियुक्ति की जाएगी और अब 1 जनवरी 2021 से तो पूरे टोल लेन खुले रहेंगे़ जिसके पास फास्ट टैग रजिस्ट्रेशन होगा उसे उचित मूल्य लगेगा व जिस वाहन धारक के पास फास्ट टैग रजिस्ट्रेशन नहीं होगा उसे दोगुना टोल टैक्स भरना होगा. इस टोल नाके पर दो लेन यानी इनकमिंग व आउटगोईंग साइड़ पर रखी है. जहां से नॉन फास्ट टैग वाहन धारकों को जाने की व्यवस्थाए की गई है.