arrest
File Photo

Loading

नागपुर. नगालैंड पुलिस ने नागपुर में छापेमारी कर धोखाधड़ी के मामले में 2 आरोपियों को गिरफ्तार किया. उन्हें प्रोडक्शन वारंट पर अपने साथ ले गई. बताया जाता है कि दोनों ने नगालैंड के एक डॉक्टर के साथ 55 लाख रुपये की धोखाधड़ी की थी. पकड़े गए आरोपियों में न्यू स्नेहनगर निवासी अमोल प्रकाश टोंग (40) और अस्मित अपार्टमेंट, बजाजनगर निवासी प्रतीक जयराम निखाड़े (35) का समावेश हैं. दोनों पडोलेनगर इलाके में स्पर्श इंटरप्राइजेस नामक दूकान चलाते हैं. क्रीड़ा साहित्य और फर्नीचर की बिक्री का व्यवसाय है.

वर्ष 2021 में नगालैंड के दीमापुर में रहने वाले एक डॉक्टर को गेम जोन शुरू करने के लिए सामग्री खरीदना था. उन्होंने इंटरनेट पर मिले मोबाइल नंबर के आधार पर अमोल और प्रतीक से संपर्क किया. अपने ऑर्डर के अनुसार दोनों को 55 लाख रुपये का पेमेंट भी कर दिया. रकम लेने के बाद भी दोनों ने माल की डिलीवरी नहीं की.

डॉक्टर ने उनसे संपर्क किया तो जल्द सामान भेजने का आश्वासन दिया और टालमटोल करते रहे. आखिर परेशान होकर डॉक्टर ने दीमापुर पुलिस से शिकायत की. पुलिस ने धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर दोनों की तलाश शुरू कर दी. प्रकरण दर्ज होने की जानकारी मिलते ही दोनों आरोपी फरार हो गए.

दीमापुर पुलिस को जानकारी मिली कि दोनों नागपुर लौटे हैं. शनिवार को नगालैंड पुलिस की टीम नागपुर पहुंची. आरोपियों को पकड़ने के लिए डीसीपी जोन 1 अनुराग जैन से मदद मांगी. उन्होंने सोनेगांव पुलिस को सहयोग करने के निर्देश दिए. स्थानीय पुलिस की मदद से नगालैंड पुलिस ने अमोल और प्रतीक को गिरफ्तार कर लिया. रविवार को उन्हें न्यायालय में पेश कर प्रोडक्शन वारंट हासिल किया और दोनों को लेकर नगालैंड रवाना हो गई.