Nagpur Mayor Dayashankar Tiwari

    नागपुर. शहर के अधिकांश हिस्सों में ट्रैफिक जाम की स्थिति को देखते हुए हाई कोर्ट की ओर से एक जनहित याचिका पर सुनवाई के दौरान पार्किंग प्लान तैयार करने के आदेश जारी किए थे. हाई कोर्ट की ओर से दिए गए आदेशों के बाद कई वर्ष बीत गए किंतु पार्किंग प्लान तैयार नहीं हुआ. वर्ष 2018 में अर्बन मास ट्रांजिट सिस्टम कम्पनी (यूएमटीसी) को पार्किंग व्यवस्थापन और ऑन स्ट्रीट पार्किंग प्लान तैयार करने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी. कम्पनी की ओर से पार्किंग प्लान तैयार कर प्रत्येक जोन में पार्षदों के समक्ष प्रस्तुतीकरण किया गया जिसमें पार्षदों की ओर से कुछ सुझाव दिए गए. इन सूचनाओं और सुझावों के अनुसार विस्तृत प्लान महासभा के समक्ष प्रस्तुत करने के निर्देश महापौर दयाशंकर तिवारी ने दिए. 

    प्रायोगिक तौर पर एक चौराहे का हो विस्तार

    गुरुवार को कम्पनी की ओर से संशोधित प्लान का प्रस्तुतीकरण मनपा आयुक्त के कक्ष में किया गया. यूएमटीसी के वरिष्ठ सलाहकार एस. रामाकृष्णन और आर.एम. अलगाप्पन ने पावर पाइंट प्रेजेन्टेशन देते हुए बताया कि पार्किंग प्लान में चौराहों के विस्तार की कल्पना भी शामिल की गई है जिस पर महापौर दयाशंकर तिवारी ने कहा कि सर्वप्रथम प्रायोगिक तौर पर एक चौराहे का विस्तार कर इसका आकलन करना चाहिए. साथ ही पार्किंग के संदर्भ में पार्षदों की सूचनाओं के साथ सभा में रखा जाना चाहिए. चूंकि पार्किंग को लेकर इसे पहले ही सभी जोन में पार्षदों को दिखाया जा चुका है, अत: अब प्राप्त सूचना के आधार पर प्रस्ताव तैयार होना चाहिए. मनपा आयुक्त राधाकृष्णन बी., अति. आयुक्त दीपक कुमार मीणा, मुख्य अभियंता प्रदीप खवले, अधीक्षक अभियंता अजय पोहेकर, ट्रैफिक इंजीनियर श्रीकांत देशपांडे उपस्थित थे. 

    नो-पार्किंग : टोइंग वैन और ऑपरेटर को हरी झंडी

    -उल्लेखनीय है कि मनपा की सभा में नो-पार्किंग पर खड़े रहने वाले चारपहिया वाहनों के खिलाफ कार्रवाई को लेकर टोइंग वैन और उसके ऑपरेटर का प्रस्ताव रखा गया था. 

    -सभा में हुई चर्चा के दौरान कुछ पार्षदों का मानना था कि शहर के अनेक हिस्सों में लोगों को पार्किंग की सुविधा नहीं है. चूंकि पार्किंग पॉलिसी निर्धारित हो रही है. अत: सर्वप्रथम लोगों को पार्किंग उपलब्ध होनी चाहिए. उसके बाद इस तरह से वाहनों पर कार्रवाई होनी चाहिए. 

    -इस तरह से सुझाव आने के बाद मनपा की सभा ने केवल नो-पार्किंग के स्थान पर खड़े रहने वाले वाहनों पर ही फिलहाल कार्रवाई करने का निर्णय लिया. साथ ही टोइंग वैन के संचालन के लिए ठेकेदार की नियुक्ति के प्रस्ताव को हरी झंडी दी.