pune mla jagtap

    पिंपरी: खासे सियासी घमासान के बीच राज्यसभा चुनाव (Rajya Sabha Elections) के नतीजे ( Result) घोषित हुए। इसमें महाराष्ट्र महाविकास आघाड़ी (Maharashtra Mahavikas Aghadi) और खासकर शिवसेना (Shiv Sena) को जोरदार झटका लगा है। पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के करिश्मे से बीजेपी ने अतिरिक्त सीट पर रिकॉर्ड जीत हासिल की। इस जीत से देवेंद्र फडणवीस राजनीति के अखाड़े में फिर एक बार ‘सबसे बड़ा खिलाड़ी’ के रूप में उभरे हैं। हालांकि उन्होंने उस जीत का सेहरा अपने दो विधायकों के सिर बांधा है। उन्होंने इस जीत का श्रेय पिंपरी-चिंचवड के विधायक लक्ष्मण जगताप और पुणे की विधायक मुक्ता तिलक को दिया है।

    असल में बीजेपी के दोनों विधायक गंभीर बीमारियों से जूझ रहे हैं। विधायक लक्ष्मण जगताप तो करीब डेढ़ माह के इलाज के बाद हालिया अस्पताल से डिस्चार्ज हुए हैं। मौत को हराकर लौटने के बाद डॉक्टरों ने उन्हें आराम करने की सख्त हिदायत दी है। हालांकि इसके बाद भी वे कल मतदान के लिए जाने के लिए तैयार थे। वे जानते थे कि बीजेपी उम्मीदवारों की जीत के लिए एक-एक वोट महत्वपूर्ण है। 

    कार्डियक एंबुलेंस से ले जाया गया

    हालांकि जगताप का परिवार यह रिस्क लेने के लिए तैयार न था, मगर उनकी इच्छाशक्ति के आगे परिवार की एक न चली। शुरू में विधायक जगताप और तिलक को एयरलिफ्ट कराकर मुंबई ले जाने की तैयारी की गई थी। हालांकि मौसम आदि का विचार कर डॉक्टरों की देखरेख में कार्डियक एंबुलेंस से उन्हें ले जाया गया। अपने जुझारू विधायकों को रिसीव करने के लिए खुद पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के साथ बीजेपी के आला नेता विधानसभा के द्वार पर खड़े थे। विधानभवन पहुंचते ही विधायक जगताप ने फडणवीस को सीएम साहब कहकर पुकारा। यहां अभिवादन के बाद पीपीई किट पहने हुए जगताप ने वोट डाला और विजयी मुद्रा दिखाकर एंबुलेंस से वापस पुणे लौट आए। 

    नतीजे आज सुबह घोषित हुए

    गंभीर रूप से बीमार रहने के बावजूद पार्टी के प्रति निष्ठा और अपने कर्त्तव्य को लेकर जागरूक रहे बीजेपी के ये विधायक मीडिया की सुर्खियों में छाए रहे। देर रात शुरू हुई मतगणना के नतीजे आज सुबह घोषित किये गए। इसमें बीजेपी के धनजंय महाडिक ने शिवसेना के संजय पवार को भारी अंतर से हराया। सियासी गलियारों में इस जीत का सेहरा देवेंद्र फडणवीस के सिर बांधा गया। खुद राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के अध्यक्ष शरद पवार ने उनकी सराहना की। मगर खुद फडणवीस ने इस सफलता का श्रेय अपने जुझारू विधायक लक्ष्मण जगताप औऱ मुक्ता तिलक को दिया है।