परिजनों पर इंप्रेशन जमाने के लिए बनाया फर्जी टिकट और वीजा, CISF टीम ने किया गिरफ्तार

    पुणे : एक कम्प्यूटर इंजीनियर (Computer Engineer) को फर्जी टिकट (Fake Tickets) और वीजा के साथ पुणे इंटरनेशनल एयरपोर्ट (Pune International Airport) पर गिरफ्तार (Arrested) किये जाने से खलबली मच गई है। पिछले दो साल से यह इंजीनियर बेरोजगार है और अपने परिजनों से विदेश में नौकरी मिलने का नाटक किया। जब परिजन उसे छोड़ने के लिए एयरपोर्ट पर आए थे लेकिन उसके थोड़ी में ही वह पकड़ा गया। आरोपी इंजीनियर का नाम असीम रविंद्र गोगटे (उम्र-30, निवासी कुमार क्लासिक सोसायटी, औंध, पुणे) है। उसके खिलाफ फर्जी टिकट और वीजा तैयार कर धोखाधड़ी करने का मामला दर्ज किया गया है।

    केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा दल के निरीक्षक अरविंदसिंह ने इस संदर्भ में रिपोर्ट दर्ज कराई है। असीम अमेरिका की एक आईटी कंपनी में काम करता था। कोरोना के कारण वह नौकरी छोड़कर पुणे आ गया था। दो साल से उसे नौकरी नहीं मिलने के कारण वह घर पर ही था। कुछ दिनों पहले उसने घर पर बताया था कि उसे कनाडा में नौकरी मिल गई है। उसके बाद उसने विदेश जाने की तैयारी शुरू करने का नाटक रचा। उसने पुणे से दिल्ली और वहां कनाडा का नकली टिकट बनाया। इसके साथ ही कनाडा के दूतावास द्वारा वीजा मंजूर किए जाने के कागजात भी परिजनों को बताए।

    अपने प्लान के मुताबिक असीम गुरुवार को अपने परिजनों के साथ पुणे इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर आया। परिजनों ने उसे एयरपोर्ट के बाहर से विदा किया। इसके बाद वह अंदर गया और जांच कक्ष की लाइन में खड़ा हो गया लेकिन परिजनों के बाहर जाते ही वह फिर बाहर आ गया। इस पर केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा दल के निरीक्षक अरविंद सिंह को उस पर शक हुआ। उन्होंने उससे पूछताछ की और टिकट की मांग की, तो उसने उन्हें फर्जी टिकट दिखा दी। फर्जी टिकट और वीजा देखकर सिंह का शक और गहरा गया। उससे पूछताछ में धोखाधड़ी का मामला उजागर हुआ। असीम का इरादा विदेश न जाकर पुणे में ही एक दोस्त के पास रहने का था। विदेश में नौकरी मिलने का बहाना उसने परिजनों से किया। परिजनों पर इंप्रेशन जमाने के लिए उसने यह कृत्य किया, यह जांच में उजागर हुआ है।