Maharashtra: Ajit Pawar said - people must follow covid rules and not force the government to shut down everything
File

    पिंपरी. महाराष्ट्र राज्य सड़क विकास निगम द्वारा पुणे जिले (Pune District) में 110 मीटर चौड़ी रिंग रोड (Ring Road) मावल तालुका (Maval Taluka) के श्री क्षेत्र भंडारा पहाड़ी में रास्ता बनाकर या टनल गिराकर बनना था। हालांकि वारकरियों, स्थानीय लोगों और विधायक के तीव्र विरोध के कारण मुंबई (Mumbai) में उपमुख्यमंत्री अजीत पवार (Deputy Chief Minister Ajit Pawar) की अध्यक्षता में हुई एक बैठक में रिंग रोड का रूट (Route) बदलने का आदेश एमएसआरडीसी (MSRDC) को दिया गया।

    पिछले कई वर्षों से लंबित पुणे के रिंगरोड के प्रोजेक्ट को अब गति मिलेगी। पूर्व और पश्चिम ऐसे दो चरणों में रिंगरोड का काम होगा। पहले चरण के रिंगरोड के लिए सौ फीसदी जमीन की माप पूरी हो चुकी है। दूसरे चरण के लिए पूर्व भाग में माप का काम जारी है। एमएसआरडीसी द्वारा यह रिंगरोड बनाया जा रहा है। इसमें पहले चरण में भोर तालुका के केलवड़े से मावल तालुका के उरनसेख के बीच 68 किलोमीटर का रिंगरोड बनेगा। इस रिंगरोड से प्रति घंटा 120 किलोमीटर का सफर किया जा सकेगा। इस रिंगरोड के रूट को लेकर स्थानीय लोगों का विरोध था। 

    विरोध के चलते परियोजना लंबित पड़ी रही

    लोगों के विरोध के चलते यह महत्वपूर्ण परियोजना लंबित पड़ी रही। इसे ध्यान में लेकर मुंबई के सह्याद्रि गेस्ट हाउस में अजीत पवार ने संबंधित अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक की। इस बैठक में क्या दिक्कत है इसकी जानकारी विधायक सुनील शेलके ने दी। पुणे के जिलाधिकारी डॉ. राजेश देशमुख ने पहले चरण की माप पूरी होने की जानकारी दी और बताया कि जल्द दर निश्चित कर प्रक्रिया शुरू की जाएगी। एमएसआरडीसी का यह रिंग रोड मावल तालुका के श्री क्षेत्र भंडारा पहाड़ी में रास्ता बनाकर या टनल गिराकर बनना था, लेकिन इसका वारकरियों और स्थानीय लोगों द्वारा तीव्र विरोध किया जा रहा था।  इसलिए रिंगरोड का रूट बदलने के लिए हमने लगातार प्रयास किया। 

    वडगांव चौक के जंक्शन पुल के काम की भी मंजूरी दी गई

    उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने बैठक में रिंगरोड का रूट बदलने का आदेश एमएसआरडीसी को दिया। इसके साथ ही सर्विस रोड और वडगांव चौक के जंक्शन पुल के काम की भी मंजूरी दी गई है। इसकी जानकारी विधायक सुनील शेलके ने दी। उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने भंडारा पहाड़ी के टनल को गिराकर सड़क बनाने के रूट को तुरंत बदलकर पहाड़ी को कोई खतरा पहुंचाए बिना सड़क बनाने के लिए कहा साथ ही और भी कई निर्देश दिए।