सचिन स्टोन क्रेशर ने की 5 करोड़ 93 लाख की बिजली चोरी

    उल्हासनगर : कल्याण तालुका (Kalyan Taluka) के फालेगांव (Phalegaon) में सचिन स्टोन क्रेशर (Sachin Stone Crusher) नामक खडी मशीन (Standing Machine) के मालिक पर 5 करोड़ 93 लाख रुपए (Rs 5 Crore 93 Lakh) की बिजली चोरी (Electricity Theft) का आरोप है। महावितरण की विजिलेंस टीम ने चोरी का खुलासा किया है। जांच में ज्ञात हुआ है कि क्रेशर संचालक ने मीटर (Meter) में रिमोट कंट्रोल सर्किट (Remote Control Circuit) लगाकर पिछले 29 महीने से 34 लाख 9 हजार 901 यूनिट बिजली की चोरी की है। क्रेशर मालिक और चालक पिता-पुत्र के खिलाफ मुरबाड पुलिस स्टेशन (Murbad Police Station) में बिजली चोरी का मामला दर्ज किया गया है। 

    ब्लैक एडहेसिव लपेटकर रिमोट कंट्रोल सर्किट लगाया गया 

    आरोपियों के नाम चंद्रकांत गजानन भांबरे और सचिन चंद्रकांत भांबरे है। भरारी टीम ने 5 मई को फालेगांव स्थित सचिन स्टोन क्रेशर के मीटर का निरीक्षण किया। प्रारंभिक जांच में पता चला है कि मीटर के साथ छेड़छाड़ की गई थी और बिजली उपयोग के रिकॉर्ड भी संदिग्ध थे। इसलिए मीटर को जब्त कर लिया गया और प्रयोगशाला में गहन जांच की गई। जांच में पता चला कि मीटर में ब्लैक एडहेसिव लपेटकर रिमोट कंट्रोल सर्किट लगाया गया था। तकनीकी विश्लेषण से निष्कर्ष निकाला गया कि रिमोट कंट्रोल की मदद से इस सर्किट को नियंत्रित करने से क्रेशर की वास्तविक बिजली खपत मीटर में कम दर्ज की जाएगी।इस तरह की बिजली चोरी दिसंबर 2019 से अप्रैल 2022 के बीच शुरू हुई थी। आरोपियों के खिलाफ विद्युत अधिनियम 2003 की धारा 135 के तहत मामला दर्ज किया गया है।    

    सुरक्षा और कार्यान्वयन विभाग के कार्यकारी संचालक शिवजी इंदलकर, उपसंचालक सुनील थापेकर, कल्याण परिमंडल के मुख्य अभियंता धनंजय औंधेकर उनके मार्गदर्शन में अतिरिक्त कार्यकारी अभियंता धनंजय सातपुते, शशांक पानतावणे, सुनील राठोड, सहायक सुरक्षा और प्रवर्तन अधिकारी धनंजय कुंटे, सहायक अभियंता अतुल ओवाल, हेमंत तिडके, तकनीशियन अरुणा नागरे, प्रफुल्ल राउत और प्रदीप फरद की टीम ने यह कार्रवाई की।