wardha corona

    वर्धा. जिले में कोरोना की पहली व दूसरी लहर ने हाहाकार मचा दिया था़  इसके बाद तीसरी लहर ने दस्तक दी़  परंतु इसका असर अधिक समय तक नहीं रहा़ आखिरकार लंबे समय के बाद 10 अप्रैल को जिला कोरोनामुक्त हुआ था़ परंतु एक माह बाद 10 मई को जिले में पुन: 3 नए संक्रमित मरीज मिले है़ इसे चौथी लहर की आहट बताई जा रही है. 

    बता दें कि जिले में कोरोना महामारी की चपेट में आकर अब तक 1,351 लोगों ने अपनी जान गंवाई है़ जिले में अब तक करिब 5 लाख 31 हजार 648 लोगों की कोरोना टेस्ट की गई है़ इनमें से करिब 4 लाख 61 हजार 5 की रिपोर्ट निगेटिव प्राप्त हुई है़ जबकि 58 हजार 113 लोग अब तक संक्रमित पाये गए है़ वहीं उचित इलाज के बाद करिब 57 हजार 147 लोगों ने कोरोना पर मात की है. 

    नागरिक झेल चुके है संक्रमण का संकट

    पहली व दूसरी लहर के दौरान लॉकडाउन, सख्त प्रतिबंध जैसी स्थिति से नागरिक गुजरे थे़  इस दौरान अनेक परिवार बर्बाद हो गए थे़  सैकड़ों की नौकरियां चली गई थी़  व्यापार प्रभावित हो गया था़  किसी तरह जनजीवन पटरी पर लौट ही रहता था कि तीसरी लहर ने जिले में दस्तक दी़  इसके चलते प्रशासन व सरकार ने पुन: पाबंदियां लगा दी. परंतु इसका असर अधिक समय तक न रहने से सभी पाबंदियां हटा दी गई. 

    पिछले 24 घंटे में 62 लोगों की टेस्ट की

    तीसरी लहर में जिले में इक्का दुक्का ही संक्रमित पाये गए़ आखिरकार 10 अप्रैल को वर्धा जिला पूर्णत: कोरोनामुक्त हो गया़  इसके बाद से करिब 1 माह तक जिले में एक भी नया संक्रमित नहीं पाया गया़ सभी ने राहत की सांस ली थी़ परंतु पिछले कुछ दिनों से देश में कोरोना की चौथी लहर की हवा चलने लगी है़ इस बीच जिले में 10 मई को पुन: 3 नए संक्रमित पाये गए़ पिछले चौबीस घंटे में करिब 62 लोगों की कोरोना टेस्ट की गई़ एक माह बाद पुन: कोरोना मरीज मिलने से कहीं यह चौथी लहर की आहट तो नहीं, यह प्रश्न उपस्थित किया जा रहा है.