Wardha, Satyagraha
File Photo

  • रिपाई ने आंदोलन में लिया हिस्सा

वर्धा. 25 दिसंबर ग्यारहवें दिन भी स्थानीय बजाज चौराहे पर सत्याग्रह आंदोलन जारी रहा. रिपब्लिकन पार्टी आफ इंडिया ने आंदोलन में हिस्सा लिया़ इस प्रसंग पर मनोज तायडे ने केंद्र सरकार के प्रति असंतोष व्यक्त किया. वर्तमान केंद्र सरकार अमीरों की सरकार है. किसान, आमजनों पर सरकार ने हमेशा अन्याय किए जाने की बात तायडे ने कही.

इसके अलावा किसान अधिकार अभियान के अविनाश काकडे, किरण राऊत, महिला किसान अधिकार मंच की प्रा. नूतन मालवी, प्रा. डा. सुलभा पाटोले, आधार संगठन के हरीष इथापे, अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति के गजेंद्र सुरकार, भूमिपुत्र संघर्ष वाहिनी के प्रवीण काटकर, योगेश घोगरे, प्रवीण पेठे ने काले कानून का निषेध करते हुए अपने विचार व्यक्त किए.

आंदोलन मंडप में असलम पठान, राजा पितले, प्रभाकर चोंदे, जितेंद्र मून, अनिल लामसोंगे, देवानंद धोंगडे, नंदेश्वर पाझारे, कवडू बुरंगे, राम दाभेकर, प्रसाद तायडे, विक्की भोमले, सुमित रनपिसे, अंकित आगलावे, ऋषिकेश मौर्य, सुगत टेंभरे, अजय चांदेकर, विलास ढोकणे, तारा तायडे, सुधीर वानखेड़े, पंडित सुटे, पूजा जाधव, श्रेया गोडे सहित अन्य उपस्थित थे.